The Holy Disappearance of His Divine Grace Srila Bhakti Ballabha Tirtha Goswami Maharaj

Srimad Bhagavatam 4.6.42
08/03/2017
Jagannath Yatra
Jagannath Rath Yatra Festival Schedule – Puri 2017
19/05/2017


Astonishingly, it so happens that His Divine Grace Srila Bhakti Ballabha Tirtha Goswami Maharaj’s appearance day and disappearance day both occurred on the same Navami Tithi, namely the ninth day of lunar cycle. Srila Maharaj appeared exactly on Ram-Navami and the day of his disappearance occurred on Navami day, 6th of Vaishakh 1424 Bangavda (Thursday, April 20, 2017 at 10.15pm).

Sri Chaitanya Charitamrita (SCC) is considered the most valuable scripture of the Gaudiya Vaishnava community and was written bySrila Krishnadas Kaviraj Goswami, who is Kasturi Manjari in Goloka Vrindavan, serving Sri Sri Radha-Krishna, the Divine couple in their divine esoteric pastimes. In Sri Chaitanya Charitamrita, Srila Krishnadas Kaviraj Goswami alludes to the auspiciousness and importance of the appearance and disappearance of the Lord and the vaishnavas in the following verse:

iswarerjanma-tithiye henapavitra
vaisnaverajanma-tithirseimatacharitra

The divinity and purity attributed to the appearance day (lunar cycle known as tithi) of the Supreme Lord; the same importance has to be denoted to the appearance day(lunar cycle) of a pure devotee.

Lord Sri Ram Chandra is the incarnation of proper etiquette and conduct (Maryada Purushottam). Similarly, as per my observation, the character of Srila Maharaj was dedicated to represent proper spiritual etiquette to the present generation of the Gaudiya Vaishnava community. After this, I believe the Supreme Lord came and physically took His Divine Grace from us on the same lunar cycle, 9th day of lunar cycle.

His Divine Grace became an Acharya of Sri Chaitanya Gaudiya Math in 1979. Even from 1978 onward, I got to associate with Srila Maharaj many times. Especially from 1990 to 1994, I used to stay at the Kolkata branch of Sri Chaitanya Gaudiya Math with my spiritual Master, His Divine Grace Srila Bhakti Pramode Puri Goswami Thakur. During this period, I used to serve my spiritual master under the guidance of Srila Tirtha Goswami Maharaj. During that time, I saw how he used to respect and treat all the vaishnavas with great affection. Whenever I got a chance to stay near Srila Tirtha Goswami Maharaj, I used to feel that he was the living replica of his spiritual master, His Divine Grace Srila Bhakti Dayita Madhava Goswami Maharaj, Founder of all branches of Sri Chaitanya Gaudiya Math.

Due to the influence of Kali-Yuga, at some point there seemed to some disagreement between devotees in Sri Chaitanya Gaudiya Math temple but Srila Tirtha Goswami Maharaj, in his steadfastness for maintaining vaishnava etiquette, always honored his godbrothers and simultaneously instructed his disciples to remain tolerant and keep respect for all his godbrothers and the vaishnavas. I once heard from his lotus lips that if we are not able to free ourselves from offenses to the vaishnava, then our devotional service will not be accepted by our worshipable Deities, Sri Sri Guru Gauranga and Sri Sri Radha Govinda jiu.

Srila Tirtha Goswami Maharaj’s disappearance pastime makes me feel that the Gaudiya Vaisnava community has lost a valuable teacher, who taught the devotional path by example. Srila Maharaj is a most valuable devotional guide and preceptor to all of us.

I remember one incident that made me want to leave the service of my Srila Gurudeva. At that time,Srila Bhakti Ballabha Tirtha Maharaj contacted me through Srila Bhakti Prajnan Hrishikesh Maharaj, who at that time was in charge of the Kolkata branch of Sri Chaitanya Gaudiya Math. Srila Tirtha Goswami Maharaj then gave me a most important instruction. He said: “Close your eyes, ears, and lips.”By this he meant that we must ignore all bad instructions or criticism and unworthy sights. He continued to say that we must speak truthfully and when necessary and in this way patiently hope for the mercy of the Supreme Lord. He said: “Thus you will realize that the mercy of Sri Sri Radha Krishna is coming down to you through Srila Puri Goswami Maharaj.” To this day, I follow this advice and act in that manner when an unusual or strange predicament comes my way. I thus continue to realize the value of his instruction.

Another time while I was staying at the Sri Chaitanya Gaudiya Math in Kolkata, Srila Tirtha Goswami Maharaj used to come after evening Arati everyday, in order to offer his obeisances to my Gurudeva on the third floor of the Math. At that time, I saw that when Srila Tirtha Goswami Maharaj was offering his prostrated obeisance to my spiritual master, my spiritual master was simultaneously also reciprocated by giving his obeisance to Srila Maharaj. As soon as Srila Tirtha Goswami Maharaj saw that my spiritual master was offering him obeisance, he immediately said: “Maharaj, you are the Siksha-Guru of our Mission and I am of your disciples’ stature, therefore I feel unworthy of your expressed respect.” My spiritual master gravely replied, saying: “I am not paying you obeisance, actually, I am paying my obeisance to the chair of His Divine Grace Srila Bhakti Dayita Madhava Goswami Maharaj, as well as to your renounced ochre sanyassa attire. Nowadays, such exemplary behavior is becoming rare amongst the present vaishnava community.

Finaly, I remember another incident at Sri Chaitanya Gaudiya Math at the Jagannath Puri branch, the birthplace of my grand spiritual master, His Divine Grace Srila Bhakti Siddhanta Saraswati Goswami Thakur Prabhupada. It was 1990, five days before the Ratha-Yatra festival and early that morning my maternal grandfather, Srila Madan Mohan Dasadhikary Prabhu arrived at the temple when Srila Tirtha Goswami Maharaj was leading the morning kirtan with Mridanga played by Sriman Bhagawan Prabhu (presently Madhusudan Maharaj) accompanied by five otherdevotees. As soon as Madan Mohan Dasadhikary Prabhu reached the Sankirtan hall of the temple, SrilaTirtha Goswami Maharaj immediately came to pay his obeisance to him. I was awed to see Srila Maharaj’s great humility to pay obeisanceto even a householder disciple of Srila Prabhupada.

Although, in terms of age and experience I am like his disciple, whenever I would go to pay him my obeisance, he would immediately offer me the same without hesitation, very much like the above-mentioned meeting between my spiritual master and Srila Tirtha Goswami Maharaj.

In conclusion, I would like to say that Srila Maharaj was the embodiment of vaishnava etiquette, humility, and tolerance, while engaging constantly in the congregational chanting, which the Supreme Personality of Godhead, Sri Krishna, in the form of Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu established to deliver the fallen souls from this Age of hypocrisy (Kali-Yuga).

Today, I am falling at the lotus feet of His Divine Grace Srila Bhakti Ballabha Tirtha Goswami Maharaj in order to receive the strength necessary to continue my service of the Mission of my spiritual master, of my grand spiritual master His Divine Grace Srila Bhakti Siddhanta Saraswati Goswami Thakur Prabhupada, and of Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu with the purity that Srila Tirtha Goswami Maharaj himself applied to his entire life.

By an unworthy and aspiring servant of the servant of Sri Sri Radha-Govinda,

Swami B.B.Bodhayan
President Acharya
Sri Gopinath Gaudiya Math

–––-

श्रील भक्ति बल्लभ तीर्थ गोस्वामी महाराज का तिरोभाव दिवस

लेख: स्वामी बी. बी. बोधायन

परम पूज्यनीय श्रील भक्ति बल्लभ तीर्थ गोस्वामी महाराज का अविर्भाव और तिरोभाव दोनों ही नवमी तिथि को हुआ| यह कोई साधारण बात नहीं है| अपितु बहुत ही आश्चर्य की बात है| श्रील महाराज का अविर्भाव राम नवमी को हुआ और उनका तिरोभाव भी नवमी तिथि को ही हुआ – 6 वैशाख 1424 बंगाब्ध, (ब्रहस्पतिवार 20 अप्रैल 2017, रात्रि 10:15 बजे)|

श्री चैतन्य चरितामृत गौड़ीय वैष्णव समुदाय का एक महत्वपूर्ण ग्रन्थ है| यह श्री कृष्णदास कविराज द्वारा रचित है जो कि गौलोक वृन्दावन में कस्तूरी मंजरी हैं और श्री श्री राधा कृष्ण के दिव्य युगल जोड़े की, दिव्य लीलाओं में, सेवा करने में संलग्न हैं| चैतन्य चरितामृत में श्रील कृष्णदास कविराज गोस्वामी ने भगवान् और वैष्णवों के अविर्भाव और तिरोभाव तिथि की महिमा के बारे में निम्मलिखित श्लोक में बताया है|

इश्वरेर जन्मा – तिथिये हेनापवित्र
वैष्णवेर जन्मा – तिथिर सेई मोतो चरित्र

जिस दिव्यता और शुद्धता के भाव से हम भगवान् की अविर्भाव तिथि को देखते हैं उसी दिव्यता और शुद्धता की दृष्टि से हमें एक शुद्ध भक्त की अविर्भाव तिथि को भी देखना चाहिए|

जिस प्रकार भगवान् श्री राम शिष्टता और आचरण में श्रेष्ठ थे और मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाये जाते हैं उसी प्रकार मेरे अनुसार श्रील महाराज का चरित्र भी श्रेष्ठ था| उन्होंने ऐसी अध्यात्मिक शिष्टता का प्रदर्शन किया जो कि गौड़ीय वैष्णव समिति की नई पीढ़ी के लिए एक आदर्श है| उनके इस आदर्श जीवन के उपरान्त भगवान् स्वयं आये और परम पूज्यनीय श्रील महाराज को नवमी की तिथि पर शारीरिक रूप से हमसे दूर कर दिया|

श्रील महाराज श्री चैतन्य गौड़ीय मठ के आचार्य 1979 में बनें| 1978 से ही मुझे श्रील महाराज का संग करने का बहुत बार सौभाग्य प्राप्त हुआ| विशेष कर 1990 से 1994 तक जब मैं श्री चैतन्य गौड़ीय मठ की कोलकाता शाखा में अपने गुरुदेव श्रील भक्ति प्रमोद पुरी गोस्वामी ठाकुर के साथ रहता था| उस समय मैं अपने गुरुदेव की सेवा श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज के मार्गदर्शन में करता था| तब मैंने देखा कि श्रील महाराज कैसे सभी वैष्णवों का कितना सम्मान करते थे और सभी से कितने प्रेम से व्यवहार करते थे| मुझे जब भी श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज के सानिध्य का अवसर प्राप्त हुआ तब मुझे यह ही अनुभव हुआ कि वह स्वयं अपने गुरुदेव परम पूज्यनीय श्रील भक्ति दयित माधव गोस्वामी महाराज, जो कि श्री चैतन्य गौड़ीय मठ की सभी शाखाओं के प्रतिष्ठाता हैं, उनके प्रतिरूप हैं|

कलयुग के प्रकोप के कारण एक समय श्री चैतन्य गौड़ीय मठ के भक्तों के बीच किसी बात को लेकर असहमति थी| ऐसे कठिन समय में भी श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज ने वैष्णव शिष्टाचार का त्याग नहीं किया| उन्होंने सदैव अपने गुरु भाईयों का सम्मान किया और अपने सभी शिष्यों को भी यही आदेश दिया कि वे अपने गुरु भाईयों और वैष्णवों के प्रति सहनशीलता बनाये रखें| मैंने उनके कर कमलों से एक बार यह बात सुनी थी कि यदि हम अपने आपको वैष्णव अपराध से मुक्त नहीं करा पाएंगे तो हमारे पूज्यनीय श्री श्री गुरु गौरांग और श्री श्री राधा गोविंदा जी कभी भी हमारी सेवा स्वीकार नहीं करेंगे|

श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज के तिरोभाव से मुझे ऐसा अनुभव होता है कि गौड़ीय वैष्णव समुदाय ने एक ऐसे मूल्यवान शिक्षक को खो दिया है जिसने अपने आचरण से भक्ति के पथ की शिक्षा प्रदान की| श्रील महाराज हम सभी के लिए एक बहुमूल्य शिक्षक और मार्गदर्शक हैं|

मुझे एक ऐसा प्रसंग याद आता है जब किसी कारणवश मैं अपने गुरुदेव की सेवा से निवृत होना चाहता था| उस समय श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज ने श्रील भक्ति प्रज्ञान हृषिकेश महाराज, जो कि उस समय श्री चैतन्य गौड़ीय मठ की कोलकाता शाखा के संचालक थे, के द्वारा मुझे बुलाया| श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज ने तब मुझे एक बहुत ही महत्वपूर्ण उपदेश दिया| उन्होंने मुझसे कहा कि “अपनी आखें, कान और मुहँ को बंद कर लो|” उनके कहने का अर्थ था कि सभी अनुचित बातों को और अयोग्य वस्तुओं को अनदेखा कर दो| उन्होंने कहा कि हमें तभी बोलना चाहिए जब आवश्यकता हो और सदैव सच बोलना चाहिए और धैर्य के साथ भगवान् की कृपा की अपेक्षा करनी चाहिए| उन्होंने कहा “ऐसा करने पर तुम्हें अनुभव होगा कि श्रील प्रमोद पुरी महाराज के द्वारा श्री श्री राधा कृष्ण की कृपा तुम तक पहुँच रही है|” आज भी जब मैं किसी संकट की स्थिति में होता हूँ तब श्रील महाराज के इस मूल्यवान उपदेश का अनुगमन करता हूँ | इस प्रकार मैं उनके बहुमूल्य उपदेश का महत्व अनुभव करता हूँ|

एक और घटना मुझे याद आती है जब मैं श्री चैतन्य गौड़ीय मठ कोलकाता में रहता था तब श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज प्रतिदिन संध्या आरती के उपरांत तीसरी मंजिल पर आकर मेरे गुरुदेव को दंडवत प्रणाम करते थे| उस समय मैंने देखा कि जब श्रील महाराज मेरे गुरुदेव को दंडवत प्रणाम करते थे तब मेरे गुरुदेव भी श्रील महाराज को उसी भाव से दंडवत प्रणाम करते थे| जैसे ही श्रील महाराज देखते थे कि मेरे गुरुदेव उन्हें दंडवत प्रणाम करने जा रहे हैं वैसे ही वे तुरंत कहते थे “महाराज आप हमारे मिशन के शिक्षा गुरु हैं और मैं आपके शिष्य की तरह हूँ अतः मैं अपने आपको इस सम्मान के अयोग्य समझता हूँ|” उस पर मेरे गुरुदेव बड़ी गंभीरता से उत्तर देते थे “मैं आपको दंडवत प्रणाम नहीं कर रहा हूँ| मैं तो श्रील भक्ति दयित माधव गोस्वामी महाराज के आसन को और आपके सन्यास के वस्त्रों को प्रणाम कर रहा हूँ| ऐसा आदर्श व्यवहार आजकल के वैष्णव समाज में दुर्लभ हो गया है|

अंत में एक और घटना का मैं उल्लेख करना चाहूँगा| यह बात श्री चैतन्य गौड़ीय मठ की जगन्नाथ पुरी शाखा की है जो कि मेरे परम गुरुदेव परम पूज्यनीय श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती प्रभुपाद की जन्मस्थली है| 1990 की बात है, जब रथ यात्रा उत्सव के पांच दिन पूर्व मेरे नानाजी श्रील मदन मोहन दास अधिकारी प्रभु, प्रातः काल मठ पहुंचे उस समय श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज सुबह की आरती कर रहे थे| उनके साथ श्रीमान् भगवान् प्रभु (जो अब मधुसुदन महाराज हैं) मृदंग बजा रहे थे और पांच अन्य भक्त भी थे| जैसे ही मदन मोहन दास अधिकारी प्रभु मंदिर के संकीर्तन कक्ष में पहुंचे, श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज तुरंत उन्हें दंडवत प्रणाम करने आये| श्रील तीर्थ महाराज की इस विनम्रता को देखकर, कि उन्होंने श्रील प्रभुपाद के एक गृहस्थ शिष्य को भी दंडवत प्रणाम किया, मैं आत्मविभोर हो गया|

आयु और अनुभव दोनों में उनके शिष्य के सामान होने पर भी, जब भी मैं उन्हें दंडवत प्रणाम करने जाता था तब वह भी मुझे बिना किसी संकोच के दंडवत प्रणाम करते थे बिल्कुल वैसे ही जैसे मेरे गुरुदेव और वह करते थे|

संछिप्त में मैं यह कहना चाहूँगा कि श्रील महाराज वैष्णव शिष्टाचार, विनम्रता, और धैर्यता के मूर्तिमान स्वरूप थे जो कि सदैव भगवान् के पवित्र नाम के जप में संलग्न रहते थे| इस कलयुग में भगवान् श्री कृष्ण ने श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु का रूप लेकर पतित आत्माओं के उद्धार के लिए यह जप बताया है|
आज मैं श्रील भक्ति बल्लभ तीर्थ गोस्वामी महाराज के कमल चरणों पर गिरकर उनसे उस शक्ति की प्रार्थना करता हूँ जिससे मैं अपने गुरुदेव, अपने परम गुरुदेव परम पूज्यनीय श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती प्रभुपाद और श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु के मिशन की पूरी निष्ठा के साथ सेवा करता रहूँ| बिल्कुल वैसी ही निष्ठा जैसी श्रील तीर्थ गोस्वामी महाराज ने अपने संपूर्ण जीवन में दिखाई|

श्री श्री राधा गोविंद के सेवकों का एक अयोग्य और आकांक्षी सेवक,
स्वामी बी. बी. बोधायन
आचार्य
श्री गोपीनाथ गौड़ीय मठ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *