Srila Gurudev’s Message on the Holy Occasion of 19th Disappearance Day of HDG Srila Bhakti Pramode Puri Goswami Thakur

कृपया हिंदी अनुवाद के लिए नीचे देखें!
Please check Bengali, Spanish, Russian Translation below…

Experiencing Vipralambha!

According to the revealed scriptures, the Supreme Personality of Godhead, Lord Sri Krishna, is eternal and His pure devotees are also eternal. But the question arises that how can the pure devotees who are in a material body be eternal? Since we all know that this material body is temporary. If we try to find the answer to this question then we arrive at the following conclusion – pure devotees live their lives according to the instructions of the Supreme Lord. So the instruction can also be to accept a material human body which is temporary. Hence to fulfill the desires of the Lord, pure devotees who are eternal by nature accept a material body which is not eternal.

Therefore, we individuals who are desirous of making this extremely rare human birth brim with loving devotion must renounce our own desires which are inimical to the scriptures and born of the speculative mind; rather, we must live our lives following the instructions of our pure devotee initiating spiritual master (diksa guru) and the instructions of our instructing spiritual masters (siksa gurus). The more the people of this world, indulging in their own independence, give up the path of following in the footsteps of the pure devotees, the greater the chaos that will manifest in society.

The Lord bestows His causeless mercy upon those who are non-duplicitous and completely surrendered unto Him. Those who are the recipient of the Lord’s mercy will never have the fear of losing anything related to this material world. In the realm of pure devotion, the intense desire for material gain, name, fame, distinction and desire are counted amongst the deadliest things of the material world. To the extent to which we develop attachment to material gain, name, fame, distinction and desire, to precisely that extent, we will become confused and doubtful. Eventually we will become totally separated from the Lord and from the association of His pure devotees. The more we get separated from these manifestations of pure devotion, namely the devotees and the spiritual master, the greater we will undergo pain and suffering from the fears of this material world.

The main goal of taking birth in a human body in this material world is to render devotional service imbued with pure love to the Supreme Lord Krishna while being free from material greed and lust. It is precisely this service attitude that is the eternal constitutional position of each and every living entity. The perfection of this human form of life is achieved if one can render such devotional service following in the footsteps of the Lord’s pure devotees.

Gopinath Gaudiya Math’s founder ācārya, he who has entered the Lord’s eternal pastimes (nitya-līlā-praviṣṭa), 108 Sri Srimad Bhakti Pramode Puri Goswami Thakur is one such pure devotee of the Lord amongst the pure devotees of all Vaishnava disciplic successions. Throughout his life, Sri Srimad Bhakti Pramode Puri Goswami Thakur taught us by his personal example to be a living embodiment of the third verse of Sriman Sacinandana Mahaprabhu’s Śikṣāṣṭakam. He lived his entire life according to this verse and taught through his own example. Even in this iron age of quarrel, hypocrisy, and crookedness, by the mercy of guru-vaishnava-bhagavan, by becoming humble and tolerant, by giving up material gains, worship and position, by offering appropriate respect to everyone and by chanting the Holy Name in a peaceful state of mind, one can become qualified to achieve pure love of God – Krishna-prema, which is extremely rare even for the residents of heaven (svarga).

We are publishing this edition of Bhagavata Dharma e-magazine on the auspicious occasion of my Gurudeva’s disappearance day festival. On the disappearance day, devotees normally reflect upon and realize the separation felt from the physical presence of the spiritual master. We can gauge our spiritual progress by measuring the extent to which we feel this separation. Therefore, we cannot ignore the importance of separation. Amongst the whole community of devotees, the realization of separation experienced by three individuals described by Srila Krishnadas Kaviraja Goswami in the Caitanya Caritamrta is by no means equal to or even comparable to the separation we feel from other Vaishnava ācāryas. Rather, Gaudiya Vaishnava devotees are eternally longing to taste the separation felt by these three individuals described by Srila Krishnadas Kaviraja Goswamipada.

The manifestation of this topmost separation was first experienced by Srimati Radharani who is non-different from Krishna and also is the pleasure-giving potency of the Lord. Once, Krishna and His elder brother Balarama, were invited by their uncle Kamsa, to visit Mathura. Krishna and Balarama had mounted the chariot and were almost commencing Their journey from Vrindavan to Mathura. At that time, Radharani along with Her various associates (sakhīs), blocked the path of the chariot and manifested their first such expression of separation. Krishna then promised Radharani and Her sakhīs that He would return to Vrindavan very soon. Much time passed by however Krishna’s return to Vrindavan, according to His promise had still not occurred. Separation born from the absence of Krishna’s direct presence and association caused Radharani to lament and say:

ayi dīna-dayārdra-nātha! he mathurā-nātha! kadāvalokyase
hdaya tvad-aloka-kātara dayita bhrāmyati ki karomy aham

ayi – Oh!; dīna-dayārdra-nātha! – master who is compassionate upon the fallen!; he – Oh!; mathurānātha-master of Mathura; kadāvalokyase– when will I be able to see you;hdayam-heart; tvad-aloka-kātaram-pain from not seeing you; dayita – Oh my dear; bhrāmyati– becomes overwhelmed; kim – what; karomy aham– do I do?

“Oh deliverer of the fallen souls! From being the Lord of Vrindavan, now you have become the Lord of Mathura.” Krishna always stays in Vrindavan in the core of His heart. However, due to being extremely afflicted in the pain of separation, Srimati Radharani said, “Oh Lord of Mathura”! But the very next moment, She said, “My heart is jumping out  of  my chest  with the desire to serve You personally.” This internal expression of deep, intense love coupled with an external expression of anger is termed as mān. Under the influence of this mān, Srimati Radharani continued, “My dearest, without the service to You, what shall I do?”

Seeing the highest manifestation of these feelings of separation, Srila Krishnadas Kaviraja Goswamipada wrote the following verse:

ei śloka kahiyāchena rādhā-thākurāṇī
tānra kpāya sphuriyāche mādhavendra-vāṇī।।
kibā gauracandra ihā kare āsvādana
ihā āsvādite āra nāhi cauha-jana।।  (Caitanya-Caritamrta Madhya 4:194)

ei – this; śloka-verse; kahiyāchena – has spoken; rādhāhākurāṇī- Radharani who is the supreme controller; tānra -Her; kpāya – by the mercy; sphuriyāche– has manifested; mādhavendra-vāṇī – the words of MadhavendraPuri; kibā– what; gauracandra -Gauracandra; ihāthis; kare āsvādana– tastes; ihā– this; āsvādite-to taste; āra nāhi – no other; cauha-jana – fourth person

“This verse (ayidīna-dayārdra-nātha…) was spoken by Srimati Radha Thakurani. By Her mercy, this verse was manifested through the words of Madhavendra Puri. Sri Gaurachandra tasted this verse. There is no fourth person who can taste this verse.

By studying the above two verses, we can understand that firstly, Srimati Radharani uttered the topmost expression of separation, ayi dīna-dayārdra-nātha, with the objective of getting the Supreme Personality of Godhead Sri Krishna to return to Vrindavan. After tasted by Srimati Radharani, this topmost expression of separation was tasted by the ācārya of divine love, Madhavendra Puripada. Both Advaita ācārya and Nityananda Prabhu had the utmost respect, reverence and affection for Madavendra Puripada. After tasted by Madhavendra Puri, this topmost feeling of separation was then tasted by Sri Sacinandana Gaurahari who is Sri Krishna Himself, beautifully ornamented with Radharani’s mood and complexion. He is the form of extreme magnanimity, coming to deliver everyone in this iron age of Kali and He is the life of the residents of Nadia. Srila Krishnadas Kaviraja Goswami concludes the verse by saying that other than these three divine personalities, there is not a fourth person to this day in the entire world of devotees who can taste this mood of separation.

The main goal of our spiritual lives is to taste a drop of this mood of separation in our own lives. This type of separation, when experienced in the heart is known as vipralambha. To taste the essence of this vipralambha, it is of utmost necessity that we completely surrender ourselves, become straight-forward and non-duplicitous in our surrender to the spiritual masters, devotees, and the Lord (guru-vaishnava-bhagavan). Therefore, Srila Bhaktivinod Thakur has composed the following verse for us in his Śaranāgati:

ātma-nivedana tuyā pade kari, hainu parama-sukhī
dukha dūre gela, cintā nā rahila, caudike ānanda dekhi।।

ātma-nivedana– complete self-surrender; tuyā– Your; pade-lotus feet; kari -I do; hainu-I have become; parama-sukhī– most blissful; dukha-sadness; dūre gela– has gone far away; cintā -worries; nā rahila – do not exist; caudike-in the four directions; ānanda – bliss; dekhi – I see

“Having completely surrendered at Your lotus feet, my Lord, I have become completely blissful. Sadness has gone far away. I have no more worries. I just see bliss in all four directions.”

In order for us to taste a drop of vipralambha, it is thus clear that we must pray for i) the acceptance of genuinely following the path shown to us by the spiritual master and, ii) the mercy of the Lord. The mercy of the Lord is showered upon us solely through the pure devotees of the Lord. Therefore, it is best for those desirous of spiritual advancement surrender themselves completely from the very core of their hearts in the service of the spiritual master and devotees (guru-vaishnava). In this way, the might get the fortune to taste such vipralambha rasa and their extremely rare human lives will be filled with transcendental bliss.

Hari Bol
B.B.Bodhayan
22 November 2018

== Hindi ==

विप्रलम्भ भाव की अनुभूति

शास्त्रों के अनुसार, परमेश्वर भगवान् श्री कृष्ण नित्य हैं और उनके शुद्ध भक्त भी नित्य हैं| परन्तु प्रश्न यह उठता है कि भगवान् के शुद्ध भक्त अगर नित्य हैं तो आखिर वे एक अनित्य भौतिक शरीर में कैसे बद्ध हो सकते हैं? अगर हम इस विषय का गहरायी से अध्यन करें तो हम इस निष्कर्ष पर पहुँच सकते हैं कि भगवान् के शुद्ध भक्त अपना जीवन भगवान् के निर्देषों के अनुसार व्यतीत करते हैं| उनके सभी कार्य केवल श्री भगवान् की इच्छाओं की पूर्ती के लिए होते हैं, फिर चाहें वह कार्य एक भौतिक शरीर को धारण करने का ही क्यूँ न हो| अर्थात भगवान् के शुद्ध भक्त भगवान् की इच्छा की पूर्ती के लिए नित्य होते हुए भी अनित्य भौतिक शरीर धारण करते हैं|

जो लोग इस सुदुर्लभ मनुष्य जीवन को भगवान् के प्रेम से परिपूर्ण करना चाहते हैं उन्हें अपनी भौतिक इच्छाओं का त्याग कर देना चाहिए – यह इच्छायें जो कि शास्त्रों के विरुद्ध हैं और हमारी अज्ञानता की उपज हैं| अपितु हमें तो अपना जीवन अपने सद्गुरु – दीक्षा और शिक्षा गुरु के निर्देशों का पालन करते हुए व्यतीत करना चाहिए| इस संसार के लोग शुद्ध भक्तों के पदचिन्हों पर चलने की जगह, जितना अपनी स्वतंत्र भौतिक इच्छाओं की पूर्ती का प्रयास करेंगे उतना ही अराजकता का माहौल इस संसार में प्रकट होगा|

भगवान् अपनी अहूतुकी कृपा उन लोगों को प्रदान करते हैं जो छल कपट से मुक्त होते हैं और सम्पूर्ण रूप से भगवान् के शरणागत होते हैं| जिन लोगों को भगवान् की ऐसी कृपा प्राप्त होती है उन्हें इस संसार की किसी भी भौतिक वस्तु को खोने का भय नहीं होता| जब हम शुद्ध भक्ति की बात करते हैं तो हमें यह मान लेना चाहिए कि भौतिक लाभ, मान सम्मान, प्रतिष्ठा और भौतिक इच्छायें यह सभी हमारे शत्रु हैं| जितना हमारी आसक्ति भौतिक लाभ, मान सम्मान, प्रतिष्ठा और भौतिक इच्छायें के प्रति बढ़ेगी उतना ही हम इस संसार से भ्रमित होते जायेंगे और हमारे मन में शास्त्रों के प्रति संशय उत्पन्न हो जाएगा| इन सबके फलस्वरूप हम भगवान् और उनके शुद्ध भक्तों से दूर होते जायेंगे| और जितना हम भगवान् के शुद्ध भक्तों से और अपने श्री गुरु से दूर होते जायेंगे उतना ही हमारे मन में इस भौतिक संसार के प्रति भय उत्पन्न होगा|

इस भौतिक संसार में एक मनुष्य शरीर लेकर जन्म लेने का उद्देश्य यही है कि हम अपने आपको भगवान् श्री कृष्ण की प्रेमामयी सेवा में संलग्न रखें| भगवान् के प्रति यह सेवा भाव ही प्रत्येक जीव का मूल स्वभाव है| हम इस सुदुर्लभ मनुष्य जीवन को तभी सफल बना सकते हैं जब हम भगवान् के शुद्ध भक्तों के पद्द्चिन्हों पर चलते हुए भगवान् की प्रेमामयी सेवा में संलग्न रहें|

श्री गोपीनाथ गौड़ीय मठ के प्रतिष्ठापक आचार्य, नित्य लीला प्रविष्ठ 108 श्री श्रीमद् भक्ति प्रमोद पुरी गोस्वामी ठाकुर, भगवान् के ऐसे ही एक शुद्ध भक्त हैं| अपने सम्पूर्ण जीवन काल में, उन्होंने हम सबको अपने व्यक्तिगत उदहारण द्वारा श्रीमान् सचिनंदन महाप्रभु के शिक्षाष्टकम् के तीसरे श्लोक की शिक्षा दी| यह कहना गलत नहीं होगा कि श्री श्रीमद् भक्ति प्रमोद पुरी गोस्वामी ठाकुर, श्रीमान् महाप्रभु के शिक्षाष्टकम् के तीसरे श्लोक के मूर्तिमान स्वरुप हैं| उन्होंने स्वयं का उदहारण प्रस्तुत करते हुए हमें सदैव यही शिक्षा दी कि इस छल, कपट और पाखण्ड से भरे कलयुग में भी कैसे गुरु, वैष्णव और भगवान् की कृपा से हम भौतिक लाभ, धन और प्रतिष्ठा से आसक्ति हटाकर, सभी को यथा योग्य सम्मान देते हुए एक शांत मन से हरिनाम का जप कर सकते हैं| इस तरह हम भगवान् कृष्ण का शुद्ध प्रेम प्राप्त करने के योग्य हो जायेंगे, जो कि स्वर्ग के देवताओं के लिए भी दुर्लभ है|

आज मेरे गुरुदेव के तिरोभाव दिवस का शुभ उपलक्ष्य है| तिरोभाव दिवस पर भक्तों को अपने गुरुदेव से विरह का भाव अनुभव करना चाहिए| हम अपनी अध्यात्मिक उन्नति का अनुमान इस बात से लगा सकते हैं कि हमें हमारे गुरुदेव से कितना विरह अनुभव हो रहा है| इसलिए हम विरह के भाव की उपेक्षा नहीं कर सकते| श्री कृष्णदास कविराज गोस्वामी ने चैतन्य चरितामृत में उन तीन भक्तों के बारे में हमें बताया है जिनके विरह के भाव की, समस्त भक्तों के समूह के बीच किसी से तुलना भी नहीं की जा सकती| बल्कि हम यह कह सकते हैं कि गौड़ीय वैष्णव इन तीनों भक्तों के विरह भाव का आस्वादन करने के लिए तत्पर रहते हैं|

इस सर्वोच्य विरह भाव का आस्वादन सबसे पहले श्रीमती राधारानी ने किया था जो कि श्री कृष्ण से अभिन्न हैं और भगवान् की आनंददायिनी शक्ति हैं| एक बार जब कृष्ण और उनके बड़े भाई बलराम के मामा कंस ने उन्हें मथुरा आने का निमंत्रण दिया तब कृष्ण और बलराम रथ पर सवार होकर वृन्दावन से मथुरा की और चले| उस समय राधारानी ने अपनी समस्त सखियों के साथ उनका पथ रोक लिया और कृष्ण से विरह का पहला भाव प्रकट किया| उस समय कृष्ण ने राधारानी और सभी सखियों को वचन दिया कि वह मथुरा से लौटकर वृन्दावन अवश्य आयेंगे| बहुत समय बीत गया परन्तु कृष्ण अपने वचन के अनुसार वृन्दावन नहीं लौटे| कृष्ण की प्रत्यक्ष अनुपस्थिति से और उनके साक्षात संग से विमुख होकर राधा रानी विचलित हो गयी और इस तरह विलाप करने लगीं:

अयि दीनदयार्द्रनाथ! हे मथुरानाथ! कदावलोक्यसे।
हृदयं त्वदलोककातरं दयित भ्राम्यति किं करोम्यहम्॥

“ओह पतित आत्माओं के उद्धारक! वृन्दावन के नाथ से अब आप मथुरा नाथ हो गए हैं|” भगवान् श्री कृष्ण अपने हृदय से सदा वृन्दावन में वास करते हैं| परन्तु इस विरह की पीड़ा से अत्यंत व्यथित होकर श्रीमती राधारानी ने कहा “हे मथुरा नाथ!” इसके अगले ही क्षण उन्होंने कहा, “आपकी सेवा स्वयं करने की तीव्र अभिलाषा के कारण मेरा ह्रदय मेरी छाती से निकला जा रहा है|” यह अत्यधिक प्रेम का आंतरिक गहन भाव और इसके साथ बाहरी क्रोध का भाव दोनों मिलकर जो भाव बनता है उसे मान कहते हैं| इस मान के प्रभाव में श्रीमती राधा रानी ने कहा, “प्रिय, आपकी सेवा से वंचित होकर अब मैं क्या करूं?”

विरह के इन सर्वोच्य भावों की पराकाष्ठा देखकर श्रील कृष्णदास कविराज गोस्वामी पाद ने लिखा:

एइ श्लोक कहियाछेन राधाठाकुराणी।
ताँर कृपाय स्फुरियाछे माधवेन्द्रवाणी॥
किवा गौरचन्द्र इहा करे आस्वादन।
इहा आस्वादिते आर नाहि चौठजन॥ (श्रीचैतन्य चरितामृत)

अनुवाद – यह श्लोक श्रीमती राधारानी द्वारा बोला गया है| उनकी कृपा से यह श्री माधवेन्द्र पुरी के शब्दों द्वारा प्रकट हुआ है| और श्री गौरचंद्र ने इस श्लोक का आस्वादन किया है| इन तीनों के अलावा कोई चौथा व्यक्ति नहीं है जो इस श्लोक का अर्थात इस विरह के भाव का आस्वादन कर सके|

ऊपर उल्लेखित दोनों श्लोकों को पढ़कर हम यह समझ सकते हैं कि सर्वप्रथम श्रीमती राधारानी ने इन सर्वोच्य विरह के भावों को बोला था| हे दीनदयारद्र नाथ इन शब्दों को बोलने का उनका उदेश्य यह था की परम परमेश्वर भगवान् श्री कृष्ण वृन्दावन लौट आयें|

श्रीमती राधारानी के पश्चात, इस उच्चकोटी के विरह रस का आस्वादन, दिव्य प्रेम के आचार्य माधवेन्द्र पुरी पाद ने किया| माधवेन्द्र पुरी पाद जिन्हें अद्वैत आचार्य और नित्यानंद प्रभु दोनों ही ने अत्यंत प्रेम और सम्मान दिया| माधवेन्द्र पुरी के पश्चात इस सर्वोच्य विरह रस का आस्वादन किया श्री सचिनंदन गौरहरि ने जो कि स्वयं भगवान् श्री कृष्ण ही हैं और श्रीमती राधारानी का सुन्दर भाव और गौर वर्ण ले कर अवतरित हुए हैं| वह उदारता के मूर्तिमान स्वरुप हैं और समस्त नदिया वासियों के प्राणस्वरूप हैं| वे कलयुग में सभी जीवों के उद्धार के लिए अवतरित हुए|

अंत में श्रील कृष्णदास कविराज गोस्वामी ने यह लिखा है कि इन तीन दिव्य आत्माओं – श्रीमती राधारानी, श्री माधवेन्द्र पुरी पाद और श्री गौरहरि – के अलावा सम्पूर्ण भक्त वृन्द में आज तक कोई और चौथा नहीं है जिसने इस विरह के भाव का पूर्ण रूप से आस्वादन किया हो| हमारे अध्यात्मिक जीवन का उद्देश्य है इस उच्चकोटी के विरह भाव की एक बूँद का आस्वादन करना| जब इस विरह भाव को हम अपने ह्रदय में अनुभव करेंगे तो इसे विप्रलम्भ भाव कहा जाएगा| इस विप्रलम्भ भाव की अनुभूति करने के लिए यह अति आवश्यक है कि हम सभी छल कपट से मुक्त होकर सम्पूर्ण रूप से श्री गुरु, वैष्णव और भगवान् के प्रति शरणागत हो जाएँ| इस सन्दर्भ में श्रील भक्तिविनोद ठाकुर ने लिखा है –

आत्मनिवेदन तुया पदे करि हैनु परमसुखी।
दुःख दूरे गेल, चिन्ता ना रहिल, चौदिके आनन्द देखि॥

अनुवाद – हे प्रभु, आपके कमल चरणों में संपूर्ण रूप से शरणागत होकर मैं परम सुख और आनंद की अनुभूति कर रहा हूँ| अब दुःख और निराशा मुझसे कोसों दूर हो गयी है| अब मैं चिंता मुक्त हो गया हूँ| मुझे चारों दिशाओं में अब केवल आनंद ही आनंद दिखता है|

विप्रलम्भ भाव की एक बूँद का आस्वादन करने के लिए यह अति आवश्यक है कि

  • अपने श्री गुरु के दिखाए हुए पथ पर पूरी निष्कपटता और सच्चाई से चलना|
  • श्री भगवान् की कृपा

जैसा कि हमने पहले वर्णन किया है कि भगवान् की कृपा हम पर केवल उनके शुद्ध भक्तों द्वारा ही होती है| इसलिए अध्यात्मिक प्रगति के लिए यह अति आवश्यक है कि हम अपने पूरे ह्रदय से गुरु और वैष्णवों की सेवा करें और उनके प्रति पूर्ण रूप से शरणागत हो जाएँ| इस तरह हमारा यह सुदुर्लभ मनुष्य जीवन दिव्य आनंद से परिपूर्ण हो जाएगा|

हरिबोल
भक्ति बिबुध बोधायन
22 November 2018

Click here for Bengali Version

Click here for Spanish Version

Click here for Russian Version

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.