Srila Gurudev Message Gaur Purnima 2019

कृपया हिंदी अनुवाद के लिए नीचे देखें!

The Ultimate Speciality of His Divine Love

The people of the kali yuga are prone to quarrel. They possess limited intelligence and short lives. Due to their limited intelligence, the majority of people live in the darkness of ignorance but think that they, themselves, are very intelligent. They think that they have a lot of wealth and that they have got everything under control. However, these people never contemplate the main goal that is to be achieved having been given this rare form of human life. They do not realize that despite earning so much wealth and property, they will not be able to take anything with them after death. Unlike real human beings, they cheat other people and instill fear in them; they sit in high government positions and show off their higher power to the general public instead of serving the common people. They do not follow their prescribed duties, rather accept bribes for the work that they are actually responsible for doing. In addition, they collect huge salaries from the government at the end of each month. However, they never think, “What is the actual purpose of collecting so much money and wealth?” They fail to realize that after death, their family members will either take their bodies to the cremation ground and burn them or will take their bodies to the burial ground and bury. The body will inevitably be destroyed in either case. The true identity of the living entity is not the body. In reality, all living entities are spirit souls (ätmä). The soul is eternal and ageless; it is like an extremely miniscule spark of fire which is part and parcel of the Supreme Lord (bhagavän). A truly intelligent person thinks about achieving auspiciousness for his soul: “All of this cheating work that I have done was to gain lots of wealth for the pleasure of my body. However, I have not done anything for the betterment of my true constitutional position as the soul.” Such intelligent people are an extremely small minority in the kali yuga. Knowing that this would be the case, the Supreme Lord appeared on earth in the form of a devotee in order to personally show the genuine and painless method towards self-realization for the general populace in the kali yuga.

One caturyuga or divya-yuga consists of one cycle of satya, tretä, dväpara and kaliyugas. 71 such caturyugas make up one manvantara. 14 manvantaras make up one day of Lord Brahma. 533 years ago, in the 28thkaliyuga of the 7thmanvantara, the Supreme Lord, Himself, appeared as Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu. He took on the form of a renounced person which is the fourth order life in Vedic society (sannyäsa) and showed the facile path towards God-realization for the kali yuga known as the sacrifice of the congregational chanting of the Holy Names (saìkértana-yajïa). Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu taught that saìkértana is the only method for the kali yuga. The word saìkértana refers to quietly chanting the Hare Krishna Mahämantrawith a one-pointed heart and also refers to loudly singing the Hare Krishna Mahämantra together with other devotees in a group. As aresult of the Supreme Lord Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu’s teachings, today, the preaching and distribution of the Hare Krishna Mahämantra is seen in more or less, every town and village of the world. The Supreme Lord has said that it is not possible for the people in the kali yuga to be engaged in meditation. The people of this age depend on grains for maintaining their lives and their minds are dedicated to material sense gratification. Nobody in the kali yuga can continuously sit in one place for even one whole day to worship the Supreme Lord with a one-pointed mind. However, in the satyayuga, people had very long lives lasting 100,000 years. They had unthinkable competence in regards to material sense control. That is why people of the satyayuga would continuously sit in one place, year after year, without eating or drinking anything, completely surrendering their minds to the Supreme Lord, being absorbed in meditation upon Him. We know from the revealed scriptures that Hiranyakasipu continuously stood on one toe of his foot for 10,000 years in meditation in order to gain the boon of immortality from Lord Brahma. The people of the kali yuga do not have life spans of 10,000 years. It is doubtful that people in the kali yuga, within their 100 years of life, can even sit for 10 hours in one place to meditate on the Supreme Lord. That is why Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu taught us to worship the Supreme Lord through chanting and singing the Holy Names rather than to practice meditation.

After the satyayuga ended, the tretäyuga began. In the tretäyuga, the path for worshiping the Supreme Lord was through fire sacrifices. A brähmaëa must be completely free from disease in order to perform such fire sacrifices; the brähmaëa must also be free of any material greed and desires for gain. The proper ingredients must also be utilized for the fire sacrifices, namely ghee (clarified butter) and wood. The ghee has to be produced from the milk of a cow who has given birth to a male calf. The wood has to be from teak, mango, wood apple, and kadamba-flower trees. The wood has to already be dried while being present on the trees; one cannot cut the wood and dry it subsequently for use in the fire sacrifices. It is extremely difficult to collect these ingredients in the kali yuga; actually, it is not just difficult to collect these ingredients, but rather, it is basically impossible to collect these ingredients in the kali yuga. We certainly engage in fire sacrifices nowadays but we do not see horses and sweet rice coming out of the fire sacrifices as they used to, during the tretäyuga when sages like Visvamitra and Vasishtha performed fire sacrifices. Nowadays, we see nothing but some smoke is produced from fire sacrifices. These days, there is nothing more than reciting some mantras and burning some ghee. This is why Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu taught us the easiest method of congregational chanting of the Holy Names (nämasaìkértana) for the kali yuga.

The dväparayugabegan after the end of the tretäyuga. The method of worshiping the Supreme Lord in the dväparayuga was through deity worship (puja-arcana). However, as stated earlier, puja requires a brähmaëa who is free of disease, free of material greed and free of desires for gain. It is impossible to find such a brähmaëa in the kali yuga. In the dväparayuga, Arjuna, who was the beholder of the gändiva bow, obtained the päsupata arrow by worshiping (püja) Lord Siva. Dronacarya, Parasurama and various brähmaëas obtained many weapons from the higher living entities (devatas) through the purity of their worship. However, nowadays, the worship of higher living entities (devas anddevés) has become a business for obtaining higher levels of material sense enjoyment and sense gratification. It has become a business for having one’s lusty material desires fulfilled. The real goal of worship is to worship the devata and devé through one’s love and service, thereby, satisfying them. When the devas and devésare pleased with us, they bestow auspiciousness upon us. Nowadays, such higher purpose for worshiping the devas and devés has been lost from our minds; instead, on the pretext of worshiping the devas and devés, people are solely looking to fulfill their material sense gratification. The devas and devés are not our servants; they should be our objects of worship. The object of worship of all of the devas and devés is the Supreme Lord, Bhagavän Sri Krishna. The devas and devés are like the branches of the tree whose root is the Supreme Lord, Sri Krishna. When the root of such a tree is watered, all of the branches and twigs will automatically be nourished. In that way, when the Supreme Lord Sri Krishna is pleased with our activities,all of the devas and devés will be automatically worshiped.

The Supreme Lord Sri Krishna appeared as Sri Krishna Chaitanya in the kali yuga in the form of a devotee. He loudly declared that He would be pleased by the residents of the world if they engage in congregational chanting and singing of the Holy Names of Krishna. We see that Srila Krishnadas KavirajaGoswami has written the following verse in the Sri Chaitanya Charitamrta:

kali-yugera dharma hayanämasaìkértana|
etad-artheavatirnasrisacinandana||

“The method for attaining the Supreme Lord in the kali yuga is through congregational chanting and singing of the Holy Names; the Supreme Lord, Sri Sacinandana, appeared in the kali yuga in order to spread this message.”

The eternal spiritual principle for the kali yuga is the congregational chanting of the Holy Names of Sri Krishna – harinämasaìkértana. In order to spread this message, the Supreme Lord, Vrajendranandana Sri Krishna, appears once in the day of Lord Brahma on Earth during the manvantara ruled by Vaivasvata Manu in the 28thcaturyuga. At present, our understanding of our true eternal constitutional function has gone far away from its genuine goal. My grand-spiritual-master, PrabhupadaSrilaBhaktisiddhantaSaraswati Thakur, has spoken in relation to this topic; he said that the true identity of the living entity is that it is the soul and not the material body. The natural, eternal constitutional function of the soul is known as the ätma-dharma. If we try to research about this eternal constitutional function of the soul, then we will find one answer – the eternal constitutional function of the soul is the attainment of eternal bliss (cira-änanda-prapti). If we go deeper, we shall find that the formof that eternal spiritual bliss is Sri Krishna. Attaining Sri Krsna means to attain eternal service to Sri Krishna. Service to Sri Krishna means to give happiness to Krishna through our activities.

The Supreme Lord, Vrajendranandana Sri Krishna, appeared in Mayapur, Nadia district, West Bengal 533 years ago. He appeared along with His eternal associates to give eternal bliss to all living entities of the kali yuga through distributing His ownHoly Names through preaching the Hare Krishna Mahämantra. Although He, Himself, is the root of all spirituality, He came to distribute the simple method of self-realization through spreading the chanting of the Hare Krishna Mahämantra.

kali-kälenäma-rpekåñëa-avatära|
nämahaitesarvajagatnistara || (CC Adi 17.22)

“In the kali yuga, Krishna appears as the Holy Name which can deliver the entire world.”

In the kali yuga, Sri Krishna has appeared as the Hare Krishna Mahämantra. This Hare Krishna Mahämantra will deliver the entire world. Then again, the Sri CaitanyaCaritämåta(Adi 7.74) has provided us of the following information:

nämavinu kali kälenähiära dharma|
sarva mantra säranämaeiçästramarma||

“There is no other spiritual principle in the kali yuga apart from the Holy Name. The Holy Name is the essence of all mantras; this is the import of all revealed scriptures.”

In the kali yuga, no process, such as meditation, fire sacrifices, deity worship etc., can fill our hearts with our eternal nature of relishing eternal bliss other than chanting of Hare Krishna Mahämantra.

After the Supreme Lord Vrajendranandana Sri Krishna returned to His eternal spiritual abode at the end of the dväparayuga in the 28thcaturyuga of the manvantara ruled by Vaivasvata Manu, kali yuga entered into this world. Due to being overcome with compassion upon the souls of the kali yuga, the Supreme Lord Vrajendranandana Sri Krishna took up the renounced order of life in the form of Sri Krishna Chaitanya. He preached the Hare Krishna Mahämantra and liberated the living entities of this world from the three-fold burning miseries of material existence. In other words, He showed the path for the living entities to become free of all material attachment and enter into the divine spiritual abode of Goloka Vrindavana which is filled with bliss and peace, the path of devotion (bhakti-dharma).

However, the influence of mäya (illusion)in the material world is so strong that the humans, despite being the supreme creation of the material world, still become bewildered by the grapple of illusion. Instead of being liberated from material attachment, the living entity becomes totally attached to matter and takes birth in 8,400,000 species of life, sometimes as aquatics, sometimes as plants, creepers and rocks, sometimes as insects and bugs, sometimes as birds, sometimes as various types of animals and finally,attains the human body. Thus, the soul perpetually wanders in the cycle of material attachment.

The Supreme Lord Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu, seeing our despicable condition, cannot remain silent. He repeatedly sends the spiritual masters (gurus) and pure devotees (vaishnavas) to us. However, our desire and attachment for material sense enjoyment has totally changed our taste for following our eternal, constitutional function of devotion. The supreme path of devotional service is to distribute theHoly Name everywhere; however, we have made it a material business. The institutions which are spreading the saìkértana movement have created hotels. The main goal of the path of devotion is to distribute divine love (prema). Instead of distributing divine love, we are busyquarrelling. In one sense, the process of congregational chanting of the Holy Names which was practiced and preached by Sri Krishna Chaitanya has been turned into a facility for sense enjoyment in the name of serving the Supreme Lord. Rather than sending people back to the supreme spiritual abode of Goloka through engaging them in the saìkértana-dharma, we are preparing people on the path for eternal residence in hell through engaging them in offenses against the spiritual masters and pure devotees in the name of service to the spiritual masters and pure devotees. As a result, we see that despite various institutions being part of the same line of spiritual preceptors (sampradäya), one institution is making arrangements to show how another institution is inferior and despicable. Instead of being nourished by the divine blessings of the previous spiritual masters to become a spiritual master for the purpose of delivering the entire world, we have become busy in appointing ourselves as spiritual masters to increase our arrangements for sense gratification. In this context, we will be unable to understand the principle without quoting a verse from NarottamaDasThakur’s kértana:

golokeraprema-dhana,harinämasaìkértana, ratinajanmilakenataya||

“Goloka-dhama’s treasure of divine love is harinämasaìkértana. Why have I not developed attachment for the Holy Names?”

The congregational chanting and singing of the Holy Names have been described as the divine treasure of the supreme spiritual abode, Goloka. In other words, in Goloka Vrindavana, due to relishing divine love, everyone walks like dancing and everyone speaks like singing. The divine Lord of Goloka, Vrajendranandana Sri Krishna, took on the renounced order of life, appearing as Sri Krishna Chaitanya. Sri Krishna Chaitanya freely distributed that extremely rare supreme wealth of divine love to all living entities; He did this to remove the humans’ tendency of quarreling and to provide them with the opportunity to enter into the blissful, spiritual world. Side by side, through His own behavior, Sri Krishna Chaitanya taught how to surrender unto the Supreme Lord.

The main method to be able to relish the taste of the treasure of divine love is through surrender. Surrender means to be humble, be tolerant, be free of desire for material gains, worship, and position, to give appropriate respect to all living entities and to chant and sing the Hare Krishna Mahämantrawhich is the auditory form of divine love (prema-dhana). In this manner, by establishing oneself in these characteristics of surrender, one should inspire others to taste this treasure of divine love. The Supreme Lord, Vrajendranandana Sri Krishna, who took on the name of Sri Krishna Chaitanya, taught us the path of surrender through His own behavior. In JagannathPuri, Sri Krishna Chaitanya, as a 24-year-old sannyäsi, destroyed the pride of His senior, SarvabhaumaBhattacarya, through the symptoms of surrender, despite SarvabhaumaBhattacarya being supremely wise in comparison to all (pandita). Further, Sri Krishna Chaitanya made SarvabhaumaBhattacarya ecstatically blissful through making him taste this nämasaìkértana. Similarly, in Kasi, Sri Krishna Chaitanya transformed Prakasananda Sarasvati’s explanation of formless Mayavada philosophy through the symptoms of surrender; He made Prakasananda Sarasvati ecstatically blissful through making him taste this näma-saìkértana.

Vrajendranandana Sri Krishna did not appear alone for delivering the world in the kali yuga. Sri Krishna brought His internal potency, MulaSankarsana Balarama, along with Him. He also brought various other internal associates. We see the following in NarottamaDasThakur’s kértana:

vrajendranandayei, sacisutahailasei, balaramahailanitai|
dina-hinayatachila, harinamauddharila, tarasaksijagaimadhai||

“Vrajendranandana appeared as the son of Saci Mata. Balarama appeared as Nitai. The Holy Names delivered all fallen people; the proof of this is seen through the story of Jagai and Madhai.”

The deliverance of the world is understood to be the transformation of all materialistic characteristics into enthusiasm for chanting the Holy Names. Everybody will be struck with wonder upon hearing about Jagai and Madhai who are spoken about in the verse above. Jagai and Madhai were not wise scholars. Rather, they had completed every single sin that can be thought of on earth. Sri Krishna Chaitanya, through the symptoms of surrender, even transformed the natures of Jagai and Madhai through making them taste the nectar of chanting and singing the Holy Names.

This harinämasaìkértanawill make everyonecrazy in supreme bliss; it will never make people crazy to attain material gains, worship and position. Sri Krishna Chaitanya is the Lord of divine love (prema-purusottama). His process of chanting the Holy Names makes everybody crazy in divine, supreme bliss. We should note that when we chant and sing the Holy Names in a mood of false humility, instead of becoming crazy in divine transcendental love and bliss, we become obsessed with attaining material gains, worship and position. In this way, we will be engaged in fighting with each other in the name of preaching the message of divine love which was taught by Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu; we would thus lose the priceless treasure of divine love and waste our rare human birth. However, every single soul which is embodied in a human body must remember that this kali yuga is very fortunate. We have all taken birth in human bodies in this specific kali yuga because we are extremely fortunate. We must take advantage of this birth. We will gain the full advantage of this birth when we vow to chant and sing the Holy Names through surrendering unto the lotus feet of the spiritual masters and pure devotees. Everyone please, thus commit to chanting and singing the Holy Names and perfect your rare human form of life.

B.B.Bodhayan
Gaur Purnima 20 March 2019

भगवान् के दिव्य प्रेम की विशेषता!

कलियुग के सभी जीव लड़ाई झगड़ा करने के लिए तत्पर रहते हैं| न केवल उनकी आयु छोटी होती है बल्कि उनकी बुद्धि भी सीमित है| अपनी सीमित बुद्धि के कारण ज़्यादातर लोग अज्ञानता के अन्धकार में रहते हैं पर वो यह सोचते हैं कि वे बहुत बुद्धिमान हैं| वे सोचते हैं कि उनके पास बहुत सारा धन है और सब कुछ उनके नियंत्रण में है| पर ये लोग कभी यह नहीं सोचते कि इस दुर्लभ मानव जीवन को प्राप्त करने के उपरान्त उनके जीवन का प्रमुख उद्देश्य क्या है| ऐसे लोग यह नहीं सोचते कि इतनी धन संपत्ति संग्रह करने के बाद मृत्यु के उपरान्त वे अपने साथ कुछ भी नहीं ले जा पायेंगे| ये लोग मनुष्यों की तरह व्यवहार करने की बजाय लोगों के साथ छल कपट करते हैं| वे उच्च पद पर बैठकर, लोगों की सेवा करने की जगह लोगों को अपनी सत्ता का प्रभाव दिखाते हैं|

ऐसे लोग अपने निर्धारित कर्तव्यों का पालन नहीं करते| अपने काम को ज़िम्मेदारी से पूर्ण करने की जगह उस काम को करने  के लिए रिश्वत लेते हैं| ये लोग हर महीने अपने काम के लिए अच्छा वेतन भी प्राप्त करते हैं| पर वे कभी यह नहीं सोचते कि आखिर इतनी धन और संपत्ति एकत्रित करने का क्या लाभ है? वे यह सोचने में सक्षम नहीं हैं कि उनकी मृत्यु के उपरान्त उनके परिवार के सदस्य उनके शरीर को शमशान भूमि में ले जाकर उनका अंतिम संस्कार कर देंगे या फिर कब्रिस्तान में ले जाकर उनके शरीर को दफ़ना देंगे| इसमें कोई संदेह नहीं है कि एक दिन हम सबका शरीर नष्ट हो जाएगा| परन्तु एक जीव की वास्तविक पहचान उसका शरीर नहीं है| वास्तविकता में सभी जीव आत्मा हैं| आत्मा तो नित्य और शाश्वत है| आत्मा आग की एक छोटी सी चिंगारी की तरह है जो भगवान् का एक अंश है| एक वास्तविक बुद्धिमान व्यक्ति अपनी आत्मा के उद्धार के बारे में विचार करता है| वह कुछ इस प्रकार से सोचता है, “मैंने अपने शरीर के लिए बहुत छल कपट करके धन संग्रह कर लिया परन्तु मैंने अपनी वास्तविक पहचान, अपनी आत्मा के उद्धार के लिए कुछ भी नहीं किया|” पर इस तरह का विचार करने वाले बुद्धिमान लोग कलियुग में बहुत ही कम हैं| परमेश्वर भगवान् यह जानते थे इसलिए वे एक भक्त का रूप धारण करके कलियुग में इस पृथ्वी पर अवतरित हुए और उन्होंने स्वयं, आत्म साक्षात्कार के लिए सभी जीवों को एक प्रामाणिक और सरल प्रणाली बताई|

एक चतुर युग या दिव्य युग में 4 युगों का पूरा चक्र होता है – सतयुग, त्रेता, द्वापर और कलियुग| इस तरह के 71 चतुर युगों को मिलाकर एक मन्वंतर बनता है| और इस तरह के 14 मन्वन्तरों का ब्रह्माजी का एक दिन होता है| 533 वर्षों पहले, सातवें मन्वंतर के 28वें कलियुग में भगवान् श्री कृष्ण स्वयं, श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु का रूप धारण करके अवतरित हुए| उन्होंने वैदिक परंपरा के, वानप्रस्थ नियम के चौथे पड़ाव, संन्यास को ग्रहण किया| संन्यास ग्रहण करके श्री चैतन्य महाप्रभु ने कलियुग के सभी जीवों को भगवान् की प्राप्ति का सरल मार्ग दिखाया जिसे हम संकीर्तन यज्ञ के नाम से जानते हैं|

श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु ने कलियुग के जीवों को यह शिक्षा दी कि इस कलियुग में संकीर्तन को छोड़कर भगवान् की प्राप्ति का और कोई मार्ग नहीं है| संकीर्तन शब्द के दो अर्थ हैं| पहला अर्थ है भक्तों के संग मिलकर शान्ति से पूरी तरह से एकाग्र होकर हरे कृष्ण महामंत्र का जप करना| दूसरा अर्थ है भक्तों के संग मिलकर ऊँचे स्वर में हरे कृष्ण महामंत्र करना| श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु की शिक्षा के फलस्वरूप आज पूरे विश्व में, हर छोटे बड़े शहर और गाँव में हरे कृष्ण महामंत्र का प्रचार और वितरण देखा जा सकता है| भगवान् ने कहा है कि कलियुग के जीवों के लिए यह संभव नहीं है कि वे ध्यान करें| इस युग के प्राणी अपना जीवन चलाने के लिए अनाज पर निर्भर रहते हैं और उनकी बुद्धि सदैव भौतिक इन्द्रिय तृप्ति में लगी रहती है| इस कलियुग में कोई भी, एक दिन के लिए भी, एक स्थान पर बैठकर सारा दिन पूरी एकाग्रता के साथ भगवान् की पूजा नहीं कर सकता|

हांलाकि सतयुग में ऐसा नहीं था| सतयुग में मनुष्यों की 1 लाख वर्ष तक की लम्बी आयु होती थी| उनके पास अपनी इन्द्रियों को नियंत्रण में रखने की अकल्पनीय क्षमता थी| इसलिए सतयुग के जीव एक ही स्थान पर वर्षों तक बैठकर, बिना जल और भोजन ग्रहण किये हुए, अपने मन को पूरी एकाग्रता के साथ, श्री भगवान् के ध्यान में लगा देते थे| शास्त्रों के अध्यन से हमें यह पता चलता है कि, हिरण्यकशिपु ने लगातार एक पैर के एक अंगूठे पर खड़े होकर, 10,000 वर्षों तक, अमर होने का वरदान मांगने के लिए, ब्रह्माजी की तपस्या की| कलियुग के लोगों की आयु 10,000 वर्षों की नहीं होती है| अपनी अधिकतम 100 वर्ष की आयु में, कलियुग का जीव, एक स्थान पर बैठकर, 10 घंटे भी भगवान् का ध्यान नहीं कर सकता| इसलिए भगवान् श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु ने हमें ध्यान करने के स्थान पर भगवान् के नाम का जप और गान करने की शिक्षा दी है|

सतयुग के उपरान्त त्रेता युग आरम्भ हुआ| त्रेता युग में श्री भगवान् की अराधना के लिए यज्ञ करने का मार्ग बताया गया| यह यज्ञ जो ब्राह्मण करता है उसे कोई भी रोग नहीं होना चाहिए, ऐसा ब्राह्मण जो सभी भौतिक लालसाओं और अभिलाषाओं से मुक्त हो| इस यज्ञ को करने के लिए शुद्ध सामग्री होना भी बहुत आवश्यक है जैसे लकड़ी, घी इत्यादि| घी केवल ऐसी ही गाय के दूध से बना होना चाहिए जिस गाय ने एक बछड़े को जन्म दिया हो|  यज्ञ के लिए लकड़ी सिर्फ सागौन के पेड़, आम के पेड़, बेल के पेड़, या फिर कदम्ब के पेड़ की ही होनी चाहिए|

यह लकड़ी पेड़ पर जब रहे तभी उसे सूख जाना चाहिए| पहले लकड़ी काटकर उसे सुखा कर यज्ञ के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता है| ऐसी सामग्रियों को कलियुग में यज्ञ के लिए एकत्रित करना बहुत ही कठिन है, कठिन ही नहीं बल्कि असंभव है| हम कलियुग में आज भी यज्ञ करते हैं परन्तु इस यज्ञ से घोड़े और खीर नहीं उत्पन्न होते जैसे की त्रेता युग में ऋषि विश्वामित्र और ऋषि वशिष्ट द्वारा किये गए यज्ञों से होते थे| आजकल के यज्ञों से केवल धुंआ ही उत्तपन होता है और कुछ नहीं| कलियुग के यज्ञ में केवल कुछ मन्त्रों का उच्चारण होता है और थोड़ा घी जलता है| इसलिए भगवान् श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु ने हमें कलियुग में, यज्ञ करने के स्थान पर, भगवान् की आराधना करने के लिए एक सरल विधि बतायी है और वह है – भगवान् के पवित्र नाम का संकीर्तन करना|

त्रेता युग के अंत में द्वापर युग का आरम्भ हुआ| द्वापर युग में भगवान् की भक्ति करने की प्रणाली थी उनके श्री विग्रह की पूजा अर्चना द्वारा| परन्तु जैसा कि पहले बताया है यह पूजा केवल वही ब्राह्मण कर सकता है जो रोग से मुक्त हो और जिसे किसी भी तरह की कोई भौतिक लालसा या भौतिक इच्छा न हो| द्वापर युग में गांडीवधारी अर्जुन ने भगवान् शिव की अराधना करके पाशुपतास्त्र नामक अस्त्र को प्राप्त किया था| द्रोणाचार्य, परशुराम और बहुत से ब्राह्मणों ने भी पूरी शुद्धता से पूजा करके देवताओं को प्रसन्न करके बहुत से शस्त्र प्राप्त किये|

परन्तु आज कल लोग एक व्यापार की तरह, भौतिक सुख और इन्द्रिय तृप्ति प्राप्त करने के लिए, देवी देवताओं की पूजा करते हैं| यह पूजा एक व्यापार बन गया है जिससे सब अपनी भौतिक इच्छाओं को पूरा करना चाहते हैं| जबकि देवी देवताओं की पूजा करने का मुख्य  उद्देश्य होता है अपने प्रेम और सेवा द्वारा उन्हें संतुष्ट करना| जब देवी देवता हमसे प्रसन्न होते हैं तब वह हमें अपनी करुणा प्रदान करते हैं| आज कल लोग देवी देवताओं की अराधना करने के इस उद्देश्य को भूल चुके हैं बल्कि वे देवी देवताओं को केवल इसलिए प्रसन्न करना चाहते हैं जिससे उनकी अपनी इन्द्रिय तृप्ति हो सके| पर यह हम भूल चुके हैं कि देवी देवता हमारे सेवक नहीं है अपितु वह तो हमारे अराध्य हैं| और सभी देवी देवताओं के अराध्य हैं परमेश्वर भगवान् श्री कृष्ण| सभी देवी देवता उस वृक्ष की शाखा जैसे हैं जिस वृक्ष की जड़ हैं भगवान् श्री कृष्ण| जब हम किसी भी वृक्ष की जड़ में पानी देते हैं तो उसकी शाखाएं और टहनियां अपने आप ही हरी भरी हो जाती हैं| उसी प्रकार से अगर परमेश्वर भगवान् श्री कृष्ण हमारे कार्यों से प्रसन्न होंगे तो देवी देवता की अराधना अपने आप ही हो जायेगी|

परम भगवान् श्री कृष्ण, इस कलियुग में श्री कृष्ण चैतन्य का रूप लेकर, एक भक्त की तरह अवतरित हुए| उन्होंने ऊँचे स्वर में यह बात कही कि वह बहुत प्रसन्न होंगे अगर यह संसार भगवान् कृष्ण के पवित्र नामों का संकीर्तन करेगा| श्रील कृष्णदास कविराज गोस्वामी ने अपने ग्रन्थ श्री चैतन्य चरितामृत में निम्नलिखित श्लोक लिखा है –

कलियुगेर धर्म हय नाम सङ्कीर्तन।
एतदर्थे अवतीर्ण श्रीशचीनन्दन॥

अर्थ: भगवान् श्री कृष्ण को प्राप्त करने का इस कलियुग में जो विधि है वह है उनके पवित्र नाम का संकीर्तन करना| परमेश्वर भगवान् श्री सचिनंदन ने यही सन्देश देने के लिए, कलियुग में अवतार लिया|

कलियुग का नित्य धर्म है श्री कृष्ण के पवित्र नाम का जप और गान करना जिसे हम श्री हरिनाम संकीर्तन कहते हैं| इस सन्देश का प्रचार करने के लिए वृजेन्द्रनंदन श्री कृष्ण, ब्रह्माजी के एक दिन में, वैवस्वत मनु के मन्वंतर के 28 वें चतुर्युग में अवतरित हुए| हमारी अपनी नित्य वास्तविक पहचान को लेकर जो समझ थी वो समझ समय के साथ कहीं लुप्त हो गयी है| मेरे परम गुरुदेव, श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती प्रभुपाद ने इस सन्दर्भ में कहा है कि एक जीव की वास्तविक पहचान यह है कि वो एक आत्मा है न कि एक भौतिक शरीर| आत्मा का नित्य प्राकिर्तिक कार्य को आत्म धर्म कहते हैं| अगर हम आत्मा के नित्य प्राकिर्तिक कार्य के विषय पर शोध करें तो हमें केवल एक ही उत्तर मिलेगा| आत्मा का नित्य प्राकिर्तिक कार्य है नित्य आनंद की प्राप्ति| अगर हम इस विषय पर और गहरायी से चिंतन करें तो हमें यह पता चलेगा कि श्री कृष्ण ही नित्य दिव्य आनंद का स्वरुप हैं| श्री कृष्ण को प्राप्त करने का अर्थ है श्री कृष्ण की सेवा प्राप्त करना| कृष्ण की सेवा करने का अर्थ है अपने कार्यों द्वारा श्री कृष्ण को आनंद देना|

आज से 533 वर्ष पहले, पश्चिम बंगाल के नदिया ज़िले में मायापुर नामक स्थान पर, भगवान्, वृजेन्द्रनंदन श्री कृष्ण अवतरित हुए| अपने नित्य परिकरों के साथ अवतरित होकर उन्होंने सभी लोगों के बीच अपने ही पवित्र नाम का वितरण करते हुए, हरे कृष्ण महामंत्र का प्रचार किया और इस तरह कलियुग के सभी जीवों को नित्य आनंद प्रदान किया| यद्यपि वे स्वयं ही आध्यामिकता की जड़ हैं परन्तु फिर भी उन्होंने एक भक्त बनकर, हरे कृष्ण महामंत्र का प्रचार करते हुए, आत्म साक्षात्कार करने की सरल विधि लोगों को बताई|

कलिकाले नामरूपे कृष्ण-अवतार।
नाम हैते हय सर्व जगत् निस्तार ॥

अर्थ: इस कलियुग में कृष्ण अपने पवित्र नाम का रूप लेकर अवतरित हुए हैं और यह पवित्र नाम सारे संसार को मुक्त कर सकता है|

श्री चैतन्य चरितामृत में ने हमें यह बताया है कि –

नाम विना कलिकाले नाहि आर धर्म।
सर्वमन्त्रसार नाम एइ शास्त्रमर्म॥

अर्थ: पवित्र नाम के अलावा इस कलियुग में और कोई भी धर्म नहीं है| भगवान् का पवित्र नाम ही सारे मन्त्रों का सार है और सभी शास्त्रों का सारांश है|

कलियुग में, हरे कृष्ण महामंत्र के अलावा, कोई भी और विधि चाहें वह ध्यान हो, यज्ञ हो या फिर भगवान् के विग्रह की अर्चना, हमारे हृदय को नित्य आनंद से परिपूर्ण नहीं कर सकती है|

वैवस्वत मनु के मन्वंतर के 28 वें चतुर युग के द्वापर युग के अंत में, जब भगवान् श्री कृष्ण अपने धाम वापस चले गए तब कलियुग ने इस पृथ्वी पर प्रवेश किया| कलियुग के लोगों पर करुणा करके, भगवान श्री कृष्ण ने श्री चैतन्य महाप्रभु का रूप धारण करके, संन्यास ग्रहण किया| उन्होंने हरे कृष्ण महामंत्र का प्रचार किया और बहुत से जीवों को इस संसार के कष्टों से मुक्त कर दिया| उन्होंने सभी जीवों को भक्ति धर्म सिखाया और बताया कि किस प्रकार वह भौतिक आसक्तियों से मुक्त होकर भगवान् के नित्य धाम गौलोक वृन्दावन में प्रवेश कर सकते हैं, जहाँ पर नित्य आनंद और शांति व्याप्त है|

हालाँकि, इस भौतिक जगत में माया का प्रभाव इतना बलशाली है कि, भौतिक जगत का सबसे श्रेष्ठ जीव होते हुए भी, मनुष्य इस माया के चंगुल में फंस जाता है| इस भौतिक आसक्ति से मुक्ति पाने की बजाय जीव इससे पूरी तरह से आसक्त हो जाता है और 84 लाख योनियों में भटकता रहता है| कभी जलचर बनकर, तो कभी पेड़ पौधे, लता और पत्थर बनकर, कभी कीड़े मकोड़े बनकर तो कभी पक्षी बनकर, कभी पशु बनकर और अंत में मनुष्य शरीर धारण कर के, आत्मा इस भौतिक आसक्ति के चक्र में घूमती रहती है|

हमारी इस अधम स्थिति को देखकर श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु शांत नहीं रह सकते| इसलिए वो बार बार हमारे उध्दार के लिए श्री गुरु और शुद्ध वैष्णवों को भेजते हैं| पर हमारी भौतिक इच्छाएं और इंद्रिय तृप्ति के प्रति हमारी आसक्ति इतनी प्रबल है कि हम हमारी आत्मा के मूल स्वाभाव को भूल चुके हैं| भक्ति धर्म का सबसे श्रेष्ठ मार्ग है हरिनाम का प्रचार करना| पर आज हमने इस हरिनाम के प्रचार को भी एक भौतिक व्यापार बना लिया है| जो लोग संकीर्तन आन्दोलन का प्रचार कर रहे हैं उन्होंने अपने लाभ के लिए इसे एक व्यवसाय बना लिया हैं| भक्ति धर्म का मुख्य उद्देश्य है दिव्य प्रेम का वितरण करना|

पर शुद्ध प्रेम का वितरण करने की जगह हम सब लड़ाई झगड़े में व्यस्त हैं| संक्षेप में हम यह कह सकते हैं कि श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु द्वारा आचार और प्रचार किया गया संकीर्तन धर्म अब इन्द्रिय तृप्ति का निमित्त बन गया है| संकीर्तन धर्म में लोगों को संलग्न करके उन्हें भगवान् के नित्य धाम गोलोक भेजने की जगह हम गुरु सेवा और वैष्णव सेवा के नाम पर, लोगों से गुरु अपराध और वैष्णव अपराध करवाकर उन्हें नरक भेजने के लिए तैयार कर रहे हैं| जिसके फलस्वरूप हम यह देख सकते हैं कि इस संप्रदाय से बहुत सी संस्थाएं जुड़ी ज़रूर है पर यह संस्थाएं हमेशा दूसरी संस्था को तुच्छ और पतित बताने में व्यस्त रहती हैं|  पूर्वर्ती आचार्यों का दिव्य आशीर्वाद प्राप्त करके, एक सद्गुरु बनकर, इस भौतिक जगत के जीवों का उद्धार करने की जगह हम अपनी इन्द्रिय तृप्ति के लिए स्वयं ही गुरु बनने के लिए तत्पर रहते हैं| इस संदर्भ में श्री नर्रोत्तम दास ठाकुर का यह श्लोक समझना बहुत आवश्यक है –

गोलोकेर प्रेमधन, हरिनाम सङ्कीर्तन, रति ना जन्मिल केन ताय॥

अर्थ: हरिनाम संकीर्तन, गौलोक का दिव्य प्रेम धन है| फिर क्यूँ इस पवित्र नाम के प्रति मेरी रूचि नहीं उत्पन्न हो रही है?

हरिनाम संकीर्तन भगवान् के नित्य धाम गौलोक का दिव्य धन है| गौलोक वृन्दावन में सब लोग नृत्य करते हुए चलते हैं और गायन करते हुए वार्तालाप करते हैं|  श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु ने गौलोक का यही दिव्य प्रेम कलियुग के सभी जीवों में  बहुत उदारता से बांटा| उन्होंने ऐसा इस उद्देश्य से किया जिससे कलियुग के जीवों की आपस में द्वेष करने की भावना समाप्त हो जाए और वे आनंद से परिपूर्ण अध्यात्मिक धाम में प्रवेश कर सकें| श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु ने अपने व्यवहार द्वारा यह दिखाया कि केसे हमें भगवान् के प्रति शरणागत होना है|

इस दिव्य प्रेम के रस का आस्वादन करने का सबसे महत्वपूर्ण मार्ग है शरणागति का मार्ग| शरणागति का अर्थ है दीन बनना, सहनशील बनना, सभी तरह की भौतिक लाभ और प्रतिष्ठा से मुक्त होकर, सभी को यथा योग्य सम्मान देते हुए हरे कृष्ण महामंत्र का जप और गान करना| हरे कृष्ण महामंत्र दिव्य प्रेम धन का ही रूप है| इस तरह अपने आप को शरणागति के इन गुणों में स्थापित करके हमें और लोगों को भी इस दिव्य प्रेम का आस्वादन करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए| भगवान् श्री कृष्ण ने श्री कृष्ण चैतन्य का रूप लेकर अपने आचरण द्वारा हमें इस शरणागति के मार्ग पर चलने की शिक्षा दी| श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु ने जग्गनाथ पुरी में, एक 24 वर्षीय सन्यासी होते हुए भी अपने से श्रेष्ठ सार्वभौम भट्टाचार्य (जो कि सभी पंडितों में सबसे ज्ञानी थे) के अभिमान को नष्ट कर दिया| यही नहीं श्री कृष्ण चैतन्य ने सार्वभौम भट्टाचार्य को नाम संकीर्तन का आस्वादन करा कर उन्हें  परमानंद की अनुभूति कराई| इसी प्रकार से श्री कृष्ण चैतन्य ने काशी में, अपने शरणागति के गुणों द्वारा, प्रकाशानंद सरस्वती के मायावाद सिद्धांत को खंडित कर दिया और उन्हें भी नाम संकीर्तन का आस्वादन कराके परमानंद की अनुभूति कराई|

व्रजेंद्रनंदन श्री कृष्ण कलियुग के जीवों का उद्धार करने के लिए अकेले अवतरित नहीं हुए| श्री कृष्ण अपने साथ अपनी अंतरंगा शक्ति, मूल संकर्षण बलराम को भी लाये| इसके अलावा वे अपने साथ कई अन्तरंग परिकरों को भी लाये| श्री नर्रोत्तम दास ठाकुर के कीर्तन में उन्होंने यह बताया है कि –

व्रजेन्द्रनन्दन येइ, शचीसुत हैल सेइ, बलराम हैल निताइ।
दीनहीन यत छिल, हरिनाम उद्धारिल, तार साक्षी जगाइ माधाइ॥

अर्थ: व्रजेंद्रनंदन शची माता के पुत्र बनकर अवतरित हुए और बलराम निताई बनकर प्रकट हुए| हरिनाम सभी पतित जीवों का उद्धार कर देता है| इसका प्रमाण हमें जगाई मधाई की लीला में मिलता है|

इस जगत के जीवों की मुक्ति का अर्थ यह है कि, लोगों के सारे भौतिक लक्षण उत्साहपूर्वक हरिनाम का जप करने में परिवर्तित हो जाएँ| जगाई मधाई की कथा हम सबको विस्मित कर देगी| जगाई और मधाई कोई बुद्धिमान विद्वान् नहीं थे बल्कि उन्होंने तो इस संसार का हर संभव पाप कर्म किया था| परन्तु फिर भी श्री कृष्ण चैतन्य ने शरणागति के लक्षणों द्वारा जगाई मधाई के स्वभाव को परिवर्तित कर दिया और उन्हें हरिनाम के अमृत का आस्वादन कराया|

यह हरिनाम संकीर्तन सभी को परमानंद में उन्मत्त कर देगा| यह कभी भी हमें भौतिक सुख, समृद्धि और प्रतिष्ठा के लिए प्रेरित नहीं करेगा| श्री कृष्ण चैतन्य प्रेम पुरुषोत्तम भगवान् हैं| उनके नाम संकीर्तन करने की विधि सभी को दिव्य आनंद में भाव विभोर कर देती है|  अगर हम केवल दीनता का दिखावा करते हुए हरिनाम का जप करेंगे तो दिव्य आनंद और प्रेम में उन्मत्त होने की जगह हम भौतिक लाभ और मान सम्मान प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित हो जायेंगे| इस तरह हम श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु के दिव्य प्रेम के सन्देश का प्रचार करने के नाम पर केवल एक दूसरे से वाद विवाद करते रहेंगे और इस बहुमूल्य प्रेम धन को खो कर अपने इस दुर्लभ मनुष्य जीवन को नष्ट कर लेंगे| इसलिए हमको दीनता का दिखावा करने की जगह अपने ह्रदय में वास्तविक दीनता का अनुभव करते हुए हरिनाम का जप करना चाहिए|

हर वो जीव जिसे मानव शरीर मिला है उसे सदैव यह स्मरण रखना चाहिए कि यह कलियुग बहुत ही भाग्यवान है| अगर हमें  मनुष्य शरीर में इस विशेष कलियुग में जन्म मिला है तो हम बहुत ही भाग्यशाली हैं| हमें इस जन्म का पूरा लाभ उठाना चाहिए| हमें इस जन्म का सम्पूर्ण लाभ तब मिलेगा जब हम अपने आपको को श्री गुरु और शुद्ध भक्तों के चरण कमलों में शरणागत करके भगवान् के पवित्र नाम का जप करेंगे| मेरी सभी से विनम्र प्रार्थना है कि सभी भगवान् के पवित्र नाम का जप करने की प्रतिज्ञा लें और अपने मनुष्य जीवन को सार्थक बनाएं|

भक्ति बिबुध बोधायन
गौर पूर्णिमा 2019

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.