119th Vyasa-puja offering of HDG Srila Bhakti Pramode Puri Goswami Thakur by HDG Srila Bhakti Bibudha Bodhayan Goswami Maharaj

Vyas Puja Invite 2017 – HDG Srila Bhakti Pramode Puri Goswami Thakur
15/09/2017
Braj Mandal Parikrama Schedule 2017
29/09/2017

हिंदी में पढ़ने के लिए इंग्लिश आर्टिकल के नीचे देखें…

No Enjoyment here, rather there is need for adjustment

In this present age of hypocrisy and quarrel (Kali-yuga), we are overcome by the problems of discrimination and conflict in all spheres of life – in mundane educational centers there are quarrels between teachers and students; in religious centers there are arguments between spiritual guides (gurus) and disciples; in the workplace there are issues between employers and employees; at home there is conflict between parents and children, between husband and wife; and so forth. Most people experience much anxiety due to the influence of Kali-yuga. Unfortunately, though it is prescribed for this age, it is very rare to see the practice of truthfulness in present society.

The four pillars of religiosity are Tapaù (austerity), Sauca (cleanliness), Dayä (compassion) and Satyam (truthfulness). There are also four ages namely, the Golden age (Satya-yuga), the Silver age (Tretä-yuga), the Copper age (Dwäpara-yuga) and the Iron age (Kali-yuga). The ancient Vedic scriptures have indicated that for each age, there is a unique prescribed method to practice spirituality. In other words, austerity is the prescribed method for the Golden age, cleanliness for the Silver age, compassion for the Copper age and truthfulness for the Iron age.

We are currently in the Iron age. This age commenced when the Supreme Personality of Godhead, Sri Krishna physically left this material world at the end of the Copper Age.

Kali-yuga personified first appeared before Parikshit Maharaja, the son of Abhimanyu and grandson of Subhadra Devi and Arjuna. Subhadra Devi is the sister of Lord Sri Krishna and Arjuna is one of the five Pandaväs, who is also the best archer and bosom friend of Lord Sri Krishna.

Parikshit Maharaja was the king of the entire world. He was a pious king and a great warrior who could not be defeated in battle. Once, when he was out on a conquest, Parikshit Maharaja observed a sinful activity taking place in his kingdom which was unprecedented. A person, adorned in kingly attire, was beating a cow’s legs. A bull was standing next to the cow on one leg; its other legs were broken. Naturally, Parikshit Maharaja was unable to tolerate such a heinous act. In order to punish the individual, who although in royal dress, was performing such a sinful activity, Parikshit Maharaja immediately took up his sword with the intention of killing the sinner. That personality was actually Kali, whose inherent nature is cheating, hypocrisy and quarrel.

Kali immediately fell at the feet of the King and spoke meekly, “Oh Parikshit Maharaja, I surrender unto you; please do not kill me.” According to the codes of conduct for kñatriyäs, someone who surrenders himself unto a King should not be harmed. Parikshit Maharaja lay down his sword, and loudly ordered Kali, “Leave my kingdom right now.” Kali Maharaja said, “Oh Maharaja Parikshit, where will I go? You are the king of the entire world. Wherever I go, that place will still be your kingdom. I am surrendering fully unto you; I am a resident of your kingdom; please give me a place to stay.” Due to his compassionate nature, Parikshit Maharaja gave Kali four places to stay. They were the four places that are presided by irreligiosity (adharma), i.e. where gambling, intoxication, illicit sexual relationships and violence take place. After being granted these four places, Kali Maharaja begged for one more place. Parikshit Maharaja then gave him a piece of gold (suvarëa) as the fifth place. If a person observes carefully it will be seen that hypocrisy, cheating, and quarreling are more prevalent in these five places compared to any other place.

When the Lord desired to take Parikshit Maharaja from this material world, He sent His illusory energy (Mäyä-devé) in the form of a dead snake to instigate this pastime. Parikshit Maharaja, who was then still in the forest, began to feel extremely thirsty. He searched everywhere for water until he came across a hermitage (açram). Upon entering the hermitage, he saw a sage sitting in deep meditation. In a loud voice, he asked the sage for water. Being absorbed in his meditation, the sage was unable to hear him. Influenced by the desire of the Lord, Parikshit Maharaja became angry. He saw the dead body of a snake (Mäyä-devé)) near the açram, and, in his anger, took the dead snake and draped it around the neck of the sage, Çamika Muni. When Samika Muni’s son, Çångi, found out about the incident, he cursed Parikshit Maharaja to die from the bite of a snake in seven days’ time. In accordance with the curse, Parikshit Maharaja physically left this material world after seven days.

Thereafter, the powerful influence of Kali Maharaja captured this entire world. As a result, nowadays, we find that in all spheres of life, people superficially display a gentle behavior. However, within, they are selfish and in pursuit of their own personal gain/interest. Where there is selfishness, there will always be hypocrisy, cheating and quarreling.

Hypocrisy, cheating and quarreling increases every day in the present society and, thus it is impossible for people to be free from anxiety. We can, therefore, conclude that, in this human form, there is no point of searching for mundane enjoyment. Instead, we should try to establish the qualities of humility and tolerance in our lives, and remain aloof from false prestige and give due respect to all living beings. Such qualities will allow us to free ourselves from the influence of Kali Maharaja. We need to take shelter of a bona fide spiritual master in the lineage of Sri Chaitanya Mahaprabhu and chant the Hare Krishna mahä-mantra sincerely.

Our lineage is known as the Brahma Sampradäya. According to the belief of our lineage, Lord Krishna is the ultimate Spiritual Master or universal teacher Himself. Krishna appeared on this earth in the form of Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu, 531 years ago. His Mission was to deliver all from the influence of Kali Maharaja. Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu taught us to chant the Hare Krishna mahä-mantra, under the shelter and guidance of pure devotees.

Today is the 4th day of the waxing moon cycle (Gaura Chaturthi). In three days’ time, it will be Durgä-püja, a famous festival for followers of the Hindu faith. Durga Devi is an expansion of Srimati Radharani. For the progression of Sri Krishna Chaitanya Mahaprabhu’s mission, my Spiritual Master, His Divine Grace Srila Bhakti Pramode Puri Goswami Thakur, appeared on Wednesday, the 18th of October 1898 (on the 2nd day of the Kartik month). He appeared in the morning during the Brahma-muhürta period in the village of Ganganandapur at Jessore district, which is currently situated in Bangladesh.

My Spiritual Master would always say, “The material world is not a place for enjoyment. Instead of seeking enjoyment, we should rather think, intellectually, how, by proper adjustment, we can get an opportunity to deliver ourselves from this miserable world.”

The influence of Kali Maharaja is making our life miserable. To escape this influence, we must avoid the five places of Kali Maharaja as mentioned above. Avoidance of these places is a regulative principle, and whilst observing it, we should chant the Hare Kåñëamahä-mantra under the shelter of a pure devotee from a valid lineage. Once we are able to follow the regulative principles and chant the Hare Kåñëamahä-mantra from the bottom of our hearts, all divine qualities, such as humility, tolerance, freedom from false prestige and the ability to offer due respect to all living beings will gradually manifest in us. We should remember that humility is the ornament of Vaishnavism. Knowledge of the various scriptures and practices alone will not deliver us from our present miserable situation. But, chanting the Hare Kåñëamahä-mantra, under the shelter of a pure devotee, will allow us to be free from the influence of Kali Maharaja and progressively enable us to enter the abode of the Supreme Lord, Goloka-Vrindavan, where we can enjoy eternal bliss.

Today, on the 119thvyäsa-püja day of my Spiritual Master, I am humbly begging you to please allow me to receive the potency to practice tolerance and to adjust amicably to the various disagreements amongst the devotees of Mahaprabhu’s mission, as well as all other fields in this material world. We know that guru is the embodiment of Krishna’s mercy and that Krishna’s mercy is capable of making the impossible possible. Therefore, I pray that Guru Maharaja, please allow me to be a true servant of Mahaprabhu’s mission, as well as the servant of the servant of the gopés life after life.

Your unworthy servant,

B.B.Bodhayan

यह जड़ जगत सांसारिक सुख पाने के लिए नहीं है अपितु अपने विवेक का उपयोग करने के लिए है!

जैसा की हम सब जानते हैं कि कलयुग का प्रभाव दिन पर दिन बढ़ रहा है और इस बढ़ते हुए कलयुग में छल, कपट, कलह और पाखण्ड भी बढ़ रहा है| इस बढ़ते हुए छल कपट के कारण हम देख सकते हैं कि जीवन के हर क्षेत्र में और हर रिश्ते में संघर्ष है और कलह है| फिर चाहें यह मत भेद और झगड़ा शिक्षा सम्बन्धी संस्थाओं में शिक्षकों और छात्रों के बीच हो, या फिर अध्यात्मिक संस्थाओं में गुरु और शिष्य के बीच हो, घर में माता पिता और उनके बच्चों में हो, या फिर पति पत्नी के बीच हो, कलह और अशांति हर जगह है| बहुत से लोग इस बढ़ते हुए कलयुग के प्रभाव से बैचेन और परेशान हैं| आज के समाज में सत्यता का होना बहुत ही दुर्लभ है|

धर्म के चार स्तम्भ हैं| तप (ध्यान), सोछ (स्वच्छता), दया (करुणा) और सत्य (सत्यता)| इसी प्रकार से चार युग भी हैं – सतयुग, त्रेता युग, द्वापर युग और कलयुग| हमारे शास्त्रों और वेदों के अनुसार हर युग में अध्यात्मिक जीवन की उन्नति के लिए अलग अलग विधि है| सतयुग में अध्यात्मिक जीवन में प्रगति करने की विधि ध्यान यानि की तप को बताया गया है| त्रेता युग में बताया गया है कि सोछ यानि कि स्वच्छता से अध्यात्मिक जीवन में विकास होता है और द्वापर युग में दया को अध्यात्मिकता में उन्नति के लिए श्रेष्ठ बताया गया है| कलयुग में सत्यता का पालन करने से ही अध्यात्मिक जीवन में प्रगति संभव है|

इस समय कलयुग चल रहा है| कलयुग का आरम्भ तब हुआ जब द्वापर युग के अंत में परम भगवान् श्री कृष्ण ने शारीरिक रूप से इस पृथ्वी को छोड़ दिया और अपने नित्य धाम में प्रवेश किया| उसी समय कलयुग साक्षात रूप लेकर महाराज परीक्षित के सामने प्रगट हुआ| परीक्षित महाराज अभिमन्यु के पुत्र थे और अर्जुन और सुभद्रा देवी के सुपुत्र थे| अर्जुन पांच पांडवों में से एक थे और उत्तम धनुर्धर होने के साथ साथ भगवान् कृष्ण के परम मित्र भी थे और सुभद्रा देवी भगवान् कृष्ण की छोटी बहन थीं|

परीक्षित महाराज पूरी पृथ्वी के राजा थे| वे एक धर्मपरायण राजा होने के साथ साथ बहुत पराक्रमी भी थे| उन्हें कभी भी युद्ध में कोई पराजित नहीं कर सकता था| एक दिन परीक्षित महाराज ने अपने राज्य में एक बहुत ही अधर्म और पाप का कार्य होते हुए देखा| उन्होंने देखा कि एक व्यक्ति राजा की वेश भूषा में सुसज्जित होकर एक गाय को पैरों पर मार रहा है| उस गाय के पास एक बैल अपने एक पैर पर खड़ा था और उसके बाकी के पैर टूटे हुए थे|

ऐसे घृणित कार्य को देखकर परीक्षित महाराज को बहुत क्रोध आया और उन्होंने उस घोर अपराधी को दंड देने के लिए तुरंत ही अपना तीर धनुष निकाल लिया| वह व्यक्ति और कोई नहीं बल्कि स्वयं कलियुग था जिसका स्वभाव ही है छल, कपट और कलह|

परीक्षित महाराज को वहां देखकर कलि ने तुरंत ही अपने आपको उनके चरणों में गिरा दिया और उनसे विनम्र भाव से विनती करने लगा, “महाराज मैं आपकी शरण में हूँ| कृपया मेरा वध मत कीजिये|” परीक्षित महाराज एक धर्मपरायण राजा थे और वे जानते थे कि जिस व्यक्ति ने राजा की शरण ली हो उसको हानि पहुँचाना धर्म के विरुद्ध है| ऐसा सोचकर महाराज ने अपना तीर धनुष रख दिया और ऊँचे स्वर में कलि को आदेश दिया,”मेरे राज्य को छोड़ कर चले जाओ|” कलि ने कहा, “महाराज मैं कहाँ जाऊं? आप तो इस पूरी पृथ्वी के राजा हैं जहाँ भी मैं जाऊँगा वह आपका ही राज्य होगा| मैं आपकी शरण में हूँ और आपके राज्य का नागरिक हूँ| कृपया मुझे रहने के लिए स्थान दें|”

अपने दयालु स्वभाव के कारण परीक्षित महाराज ने कलि को रहने के लिए चार स्थान दिए| यह चार स्थान वह हैं जहाँ केवल अधर्म का कार्य होता है जैसे कि जुआ खेलना, मदिरा पान करना, किसी स्त्री या पुरुष के साथ अवेध सम्बन्ध रखना और हिंसक कार्य करना| इसके उपरांत परीक्षित महाराज ने कलि को रहने के लिए क पांचवा स्थान भी दिया– यह स्थान था सोने का एक टुकड़ा यानि कि सुवर्ण| अगर आप ध्यान से सोचें तो आप यह देख सकते हैं कि इन पांच स्थानों में ही सबसे ज़्यादा छल, कपट और कलह होते हैं|

परीक्षित महाराज के कलि के साथ इस संवाद के उपरांत जब वह जंगले में आगे बढ़े तो उनको बहुत प्यास लगी| यह ऐसा समय था जब भगवान् यह चाहते थे कि परीक्षित महाराज को इस भौतिक जगत से वापस बुला लिया जाए| इस कार्य को पूरा करने के लिए भगवान् ने अपनी महा माया शक्ति को एक मरे हुए सर्प के रूप में भेजा| परीक्षित महाराज व्याकुल होकर पानी की तलाश करने लगे और एक आश्रम में पहुंचे| आश्रम में प्रवेश करके उन्होंने देखा कि एक ऋषि गहरे ध्यान में हैं| उन्होंने ऊँचे स्वर में ऋषि से पानी माँगा| परन्तु गहरे ध्यान में होने के कारण ऋषि ने महाराज की बात नहीं सुनी| भगवान् की ऐसी इच्छा थी कि ऐसे समय में महाराज परीक्षित को क्रोध आ जाए|

उसी समय परीक्षित महाराज ने देखा कि आश्रम में एक मरा हुआ सर्प (मायादेवी) पड़ा हुआ है और क्रोध की अवस्था में उन्होंने उस मरे हुए सर्प को उठाकर ऋषि के गले में डाल दिया| उस ऋषि का नाम शैमिक मुनि था| जब शैमिक मुनि के पुत्र श्रृंगी को इस घटना के बारे में पता चला तो उन्होंने परीक्षित महाराज को श्राप दे दिया| श्राप के अनुसार सात दिन पश्चात तक्षक नाम के सर्प के काटने पर परीक्षित महाराज की मृत्यु हो जायेगी| और इस श्राप के अनुसार परीक्षित महाराज ने सात दिन पश्चात इस संसार को छोड़ दिया|

इसके पश्चात यह पूरी पृथ्वी कलि के प्रभाव से ग्रसित हो गयी| जिसके फलस्वरूप हम देख सकते हैं कि जीवन के हर क्षेत्र में लोग केवल बाहर से दयालु होने का दिखावा करते हैं| अन्दर से लोग बहुत स्वार्थी हो गए हैं और केवल अपने लाभ के लिए ही हर कार्य करते हैं| और जहाँ पर स्वार्थ होगा वहां पर छल, कपट और कलह तो निश्चित ही होंगे|

इस कलयुग के साथ साथ छल, कपट और कलह भी बढ़ते जा रहे हैं और इसके साथ साथ ही लोगों की बैचेनी भी बढ़ती जा रही है| इस प्रकार हम यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि इस जड़ जगत में सांसारिक सुख तलाशने का कोई लाभ नहीं है| हम सब को अपने जीवन में विनम्र स्वभाव और सहनशीलता अपनानी चाहिए और प्रयास करना चाहिए कि हम सबको सम्मान देते हुए झूठी प्रतिष्ठा से दूर रहें| अगर हम ऐसे गुणों को अपनाएंगे तो हम कलि महाराज के प्रभाव से दूर रहेंगे| इसके लिए हमें एक सदगुरु की, जो कि एक प्रमाणित परंपरा से हों, शरण लेनी होगी और हरे कृष्ण महामंत्र का जप करना होगा|

हमारी परंपरा का नाम है ‘ब्रह्म सम्प्रदाए’| हमारे संप्रदाय के अनुसार श्री कृष्ण ही परम भगवान् हैं और इस ब्रह्माण्ड के सर्वोच्च गुरु हैं| इस कलयुग में 531 वर्ष पहले, श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु के रूप में, श्री कृष्ण इस धरती पर प्रगट हुए| उनका लक्ष्य था हमको कलयुग के प्रभाव से बाहर निकालना| श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु ने शुद्ध भक्तों के अनुयायी होकर हरे कृष्ण महामंत्र का जप करने की शिक्षा हमें दी|

आज गौरचतुर्थी है| तीन दिन में दुर्गा पूजा का उत्सव आरम्भ होने जा रहा है जो की हिन्दुओं के लिए एक महत्वपूर्ण उत्सव है| दुर्गा देवी श्रीमती राधा रानी का ही विस्तार रूप हैं|

श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु के कार्य की प्रगति के लिए, मेरे गुरुदेव श्रील भक्ति प्रमोद पुरी गोस्वामी ठाकुर, बुधवार,18 October 1898 को (कार्तिक महीने के दूसरे दिन पर), प्रगट हुए| वे सुबह ब्रह्म मुहुर्त में, जेसोर ज़िले के गंगानन्दपुर गाँव में, (जो कि अब बांग्लादेश में है), प्रगट हुए|

मेरे गुरुदेव हमेशा कहते थे, “यह जड़ जगत सांसारिक सुख पाने के लिए नहीं है| सांसारिक सुखों के पीछे भागने की बजाय हमें पूरे विवेक के साथ यह सोचना चाहिए कि कैसे हम सुअवसर का लाभ उठाकर इस दुःख भरे संसार से अपने आपको मुक्त करा सकते हैं|”

कलि महाराज के प्रकोप से हम सब व्यथित हैं| कलि के इस प्रभाव से बचने के लिए यह आवश्यक है कि हम उन पाँचों स्थानों का त्याग करें जहाँ पर कलि महाराज वास करते हैं और इसके साथ ही हम किसी शुद्ध भक्त के अनुयायी होकर हरे कृष्ण महामंत्र का जप करें|

जब हम इन नियमों का पालन करते हुए हरे कृष्ण महामंत्र का जप अपने पूरे हृदय से करेंगे, तो निश्चित ही धीरे धीरे हममें अलौकिक गुण प्रगट होने लगेंगे| यह अलौकिक गुण हैं विनम्रता, सहनशीलता, झूठी प्रतिष्ठा से मुक्ति और सभी जीवों को सम्मान करने की भावना|

हमें यह पता होना चाहिए कि विनम्रता एक वैष्णव का आभूषण है| विभिन्न शास्त्रों का ज्ञान हमें इस दुखभरे जगत से मुक्ति नहीं दिला सकता| परन्तु एक शुद्ध भक्त के अनुयायी होकर, हरे कृष्ण महामंत्र का जप करने से धीरे धीरे हम कलयुग के प्रभाव से निकलकर, भगवान् के नित्य धाम, गौलोक वृन्दावन में प्रवेश कर पायेंगे, जहाँ हमें नित्य आनंद का अनुभव होगा|

आज मेरे गुरुदेव की 119 वीं व्यास पूजा के इस पावन उपलक्ष्य पर, मैं आप सबसे विनम्र निवेदन करता हूँ कि आप लोग मुझे आशीर्वाद दें जिससे मुझमें वह सहनशीलता आ सके कि मैं श्रीमान महाप्रभु के भक्तों के बीच मतभेद के साथ सामंजस्य कर सकूँ और साथ ही इस संसार के लोगों के बीच जो मतभेद हैं उनके साथ भी सामंजस्य कर सकूँ|

शास्त्रों के अनुसार हम सब यह जानते हैं कि श्री गुरु भगवान् की कृपा के मूर्तिमान स्वरुप होते हैं और कृष्ण की कृपा से असंभव भी संभव हो सकता है| इसलिए आप सबसे प्रार्थना है की मुझ पर कृपा करें जिससे मैं भगवान् श्री चैतन्य महाप्रभु के आन्दोलन का सच्चा दास बन सकूँ और गोपियों के भी दासों का दास जनम जनम तक बन सकूँ|

आपका अयोग्य सेवक,
बी.बी. बोधायन

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *